यूपी की शान नोएडा बन रहा विकास का प्रतीक :CM Yogi

0

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा को ‘यूपी की शान’ कहा है। उन्होंने कहा कि आर्थिक दृष्टिकोण से उत्तर प्रदेश के सबसे उन्नत और उच्चस्तरीय आधुनिक जीवन शैली वाले नोएडा में विकास के प्रतिमान स्थापित हो रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी, सोमवार को प्रदेश की स्थापना की वर्षगांठ के तीन दिनी समारोह के दूसरे दिन नोएडा में आयोजित कार्यक्रम में जनता से मुखातिब थे।

मौसम की खराबी के कारण नोएडा हाट में आयोजित भव्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने भौतिक रूप से प्रतिभाग नहीं कर सके। लिहाजा उन्होंने इस कार्यक्रम में अपने सरकारी आवास से वर्चुअली सहभगिता की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा नोएडा में बायोडाइवर्सिटी पार्क के लोकार्पण सहित जनसुविधा से जुड़ी 700 करोड़ रुपये से लागत वाली 66 परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। साथ ही, ओडीओपी योजनान्तर्गत टूलकिट का वितरण, स्वयं सहायता समूहों को आरएफ, सीआईएफ, सीसीएल का वितरण, कृषि विभाग द्वारा उपकरण वितरण तथा विकास भवन को आईएसओ प्रमाण पत्र प्रदान किया।

इस मौके पर कहा कि, “जेवर एयरपोर्ट और विश्वस्तरीय फिल्म सिटी की स्थापना लोककल्याण के संकल्पों को पूरा करने की दिशा में मील के पत्थर साबित होंगे। इससे निवेश की अनन्त संभावनाओं के द्वार खुल जाएंगे। इस पूरे क्षेत्र को औद्योगिक विकास के पैमाने पर नई पहचान मिलेगी।”

यूपी दिवस के अवसर पर नोएडा हाट में एक जनपद-एक उत्पाद (ओडीओपी) सहित नोएडा में संचालित अथवा प्रस्तावित नई परियोजनाओं से जुड़ी विभिन्न प्रदर्शनियां भी लगाई गई थीं।

प्रदर्शनी का वर्चुअल अवलोकन करते हुए योगी ने कहा कि, “औद्योगिक विकास के लिए वह स्थान अनुकूल होता है, जहां पूर्व से ही परंपरागत उद्यम क्लस्टर हों। पूंजी निवेश भी ऐसे ही क्लस्टरों में होगा। ऐसे में हमारे यूपी के हर जिले में कुछ न कुछ खास हैं। ओडीओपी योजना के जरिए इसी खास को हम बेहद खास बना रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि, “ओडीओपी ने शिल्पकारों को मंच और मौका दोनों दया है। योजना के जरिए सरकार उनके साथ प्रशिक्षण से लेकर बाजार तक इन शिल्पियों के साथ है। इसके नाते उनके जीवन में व्यापक परिवर्तन हो रहा है। बड़ी संख्या में रोजगार सृजित हुए हैं।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि नोएडा हाट में लगी यह ओडीओपी प्रदर्शनी, जो 10 फरवरी तक चलेगी, पश्चिमी उत्तर प्रदेशवासियों के साथ-साथ एनसीआर के अन्य क्षेत्रों के लिए अत्यंत उपयोगी सिद्ध होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नोएडा में बहुत सी विकास योजनाएं चल रही हैं। दो दिन पूर्व ही नोएडा इनडोर स्टेडियम का शुभारंभ हुआ, 10 महीने बाद खेलप्रेमियों के चेहरे पर मुस्कान आई।

नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी के समेकित प्रयासों से नोएडा देश के सामने विकास का रोल मॉडल बन गया है।

कोविड काल में पुलिसकर्मियों के कार्यो की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि, “कोविड काल में डोर-स्टेप डिलीवरी का काम देश में सबसे पहले उत्तर प्रदेश में शुरू हुआ। पीआरवी 112 ने डोर स्टेप प्रणाली शुरू की, जिसे बाद में अन्य राज्यों ने अपनाया।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में 40 लाख प्रवासी आए। सबके सहयोग से अधिकांश को स्थानीय स्तर पर काम दिलाया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नोएडा में चार थानों का शुभारंभ भी किया, साथ ही, सेफ सिटी परियोजना के विभिन्न कार्यो की भी शुरूआत हुई। यूपी दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री ने प्रसिद्ध गायक कैलाश खेर की आवाज से सजा ‘यूपी की शान नोएडा’ बोल वाला ‘नोएडा थीम सांग’ भी जारी किया।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleनक्सलियों पर कार्रवाई के लिए सीआरपीएफ को मिलेगा ‘Micro UAV A-410’
Next articleVarun Dhawan wedding: वरूण धवन की शादी के बाद सोशल मीडिया पर भावुक हुए करण जौहर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here