Nitish Kumar ने वेणुवन, घोड़ाकटोरा पार्क का किया लोकर्पण, राजगीर को ऐतिहासिक और धार्मिक भूमि बताया

0

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को बिहार के राजगीर में वेणुवन के विस्तार और सौंदर्यीकरण तथा घोड़ाकटोरा पार्क का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने राजगीर को ऐतिहासिक, धार्मिक और सर्वधर्म की भूमि बताते हुए कहा कि प्राकृतिक रूप से यह काफी सुंदर स्थल है, यही कारण है कि यहां जू सफारी के बाद नेचर सफारी निर्माण का निर्णय लिया गया है।

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के तहत सौंदर्यीकृत एवं विस्तारित वेणुवन का लोकार्पण करने के बाद मुख्यमंत्री ने वेणुवन का भ्रमण किया एवं तालाब की मछलियों खिलाया।

उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि 2600 वर्ष पूर्व यहां भगवान बुद्ध का निवासस्थल था और वेणुवन के इसी तालाब में भगवान बुद्ध स्नान किया करते थे। राजगीर मगध सामा्रज्य की राजधानी हुआ करता था।

उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा, “जितने पर्यटक और बौद्ध धर्मावलंबी यहां आएंगे उन्हें सुखद अनुभूति होगी। इससे नई पीढ़ी के लोग पर्यावरण के साथ साथ इतिहास की भी जानकारी ले सकेंगे।”

उन्होंने कहा कि जू सफारी और नेचर सफारी का काम भी तेजी से आगे बढ़ रहा है। एक-डेढ़ महीने के अंदर नेचर सफारी का काम पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि यहां एक छोटा हवाई अड्डा भी बनेगा, जिससे हेलीकॉप्टर द्वारा भी पर्यटक आ सकें। यहां अंतर्राष्ट्रीय स्तर का नालंदा विश्वविद्यालय भी है।

मुख्यमंत्री ने यहां घोड़ाकटोरा पार्क का भी लोकर्पण किया। लोकर्पण के बाद मुख्यमंत्री ने पौधारोपण भी किया। उन्होंने कहा कि घोड़ाकटोरा में पर्यटकों के आवागमन को लेकर इसका विस्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि पंचपर्वत में वृक्षारोपण के कारण हरित आवरण काफी बढ़ा है।

इस मौके पर उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी, सांसद कौशलेंद्र कुमार, विधायक श्रवण कुमार सहित कई अधिकारी मौजूद थे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleSouth Africa ने पाकिस्तान दौरे के लिए 21 सदस्यीय टीम घोषित की
Next articleVidur niti: मुश्किलों में फंसा सकता है ऐसे लोगों का साथ, बनाकर रखें उचित दूरी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here