इलेक्ट्रिक और बायो फ्यूल वाहनों के लिए जरूरी नही है परमिट- नितिन गडकरी

0
47

जयपुर। अब देश में इलेक्ट्रिक और बायो फ्यूल वाहनों को चलाने वाले लोगों के लिए परमिट लेने की जरूरत नही पड़ेगी। सरकार ने ऐसे वाहनों पर छुट देने का निर्णय लिया है। सरकार द्वारा इस तरह के हरित वाहनों को परमिट में छुट देने जा रही है। आपको बता दें कि हाल ही में केंद्रीय  सड़क परिवहन व राजमार्ग तथा जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने इसकी जानकारी दी है।

नितिन गडकरीन ने ट्रकों और बसों में स्पीड गवर्नर की अनिवार्यता खत्म करने और मेट्रो शहरों को छोड़ बाकि के शहरों में टू-व्हीलर्स टैक्सियों को परमिट दिए जाने के भी संकेत दिए है।

उन्होंने बताया कि, हमने इलेक्ट्रिक वाहनों तथा एथनॉल, बायो डीजल, सीएनजी तथा बायो फ्यूल जैसे वैकल्पिक ईंधन पर चलने वाले ऑटोरिक्शा, बस, टैक्सी समेत समस्त वाहनों को परमिट की आवश्यकता से मुक्त करने का निर्णय लिया है। इसके अलावा देश में अब कहा कि ओला और उबर जैसी कैब सुविधा देने की बात कही है।

आपको बता दें कि राजस्थान के परिवहन मंत्री यूनूस खान के नेतृत्व में गठित मंत्रिसमूह की इस सिफारिश पर राज्य सरकारों ने भी सहमति जताई है। उन्होंने स्पष्ट रुप से कहा है  कि इलेक्ट्रिक वाहनों के उत्पादन के लिए सरकार कंपनियों को वित्तीय रियायत प्रदान नहीं करेगी।

आपको बता दें कि इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए सरकार 2015 से फेम नाम की स्कीम चला रही है जो दिसंबर में खत्म होने जा रही है। इसके बाद सरकार फेम-2 को शुरु करने पर विचार कर रही है। जानकारी के अनुसार इस नए फेम को प्रधानमंत्री मोदी 7 सितंबर से शुरु करने जा रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here