महाराष्ट्र की राजनीति में उभर रहे नए राजनीतिक समीकरण

0
41

महाराष्ट्र में भाजपा द्वारा सरकार बनाने से आधिकारिक तौर पर इंकार किए जाने के बाद राज्य में एक नया राजनीतिक हालात यह पैदा हो रहा है, जहां कांग्रेस के समर्थन से शिवसेना-राकांपा (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी) की सरकार बनने की एक संभावना बन सकती है। जयपुर में कांग्रेस विधायकों की बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को कोई भी निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया गया। सूत्रों ने कहा है कि अधिकांश विधायक सेना के नेतृत्व वाली सरकार को शर्तो के साथ समर्थन देने के पक्ष में हैं। पार्टी के राज्य प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे राजनीतिक हालात के बारे में सोनिया गांधी को जल्द ही अवगत कराएंगे।

महाराष्ट्र के एक पूर्व मुख्यमंत्री के करीबी एक कांग्रेस सूत्र ने कहा, “एक संभावित परिदृश्य में सेना-राकांपा की सरकार कांग्रेस के समर्थन से बन सकती है, जिसमें विधानसभा अध्यक्ष का पद राकांपा के पास हो सकता है।”

कांग्रेस की रणनीति शरद पवार के परामर्श पर निर्भर होगी, जो मंगलवार को राकांपा विधायकों की बैठक के बाद सोनिया गांधी से मिलने वाले हैं।

कांग्रेस सूत्रों ने यहां कहा कि पार्टी शिवसेना से बातचीत पर तभी विचार करेगी, जब वह भाजपा नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग हो जाएगी और केंद्रीय कैबिनेट में उसके एक मंत्री अरविंद सावंत इस्तीफा दे देंगे।

कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने कहा, “कांग्रेस को राज्य में उपलब्ध सभी विकल्पों पर विचार करना चाहिए।”

शिवसेना ने एक तरह के सुलह और संवाद का रास्ता साफ करने के लिए अपने मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा है कि कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं है।

इस बीच, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने विधायकों से मुलाकात की और राजनीतिक हालात पर चर्चा की। विधायकों को मुंबई के एक होटल में रखा गया है।

अब सारी नजरें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार पर है, जो मंगलवार को अपने विधायकों से मुलाकात करने वाले हैं। राकांपा नेता नवाब मलिक ने कहा, “हम उसी दिन इस मामले पर विचार करेंगे।”

मलिक ने कहा, “यदि भाजपा-शिवसेना सरकार बनाते हैं तो हम विपक्ष में बैठेंगे। अन्यथा हम एक वैकल्पिक सरकार की संभावना तलाशेंगे।”

वरिष्ठ कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने रविवार को ट्वीट किया, “महाराष्ट्र के राज्यपाल को चाहिए कि अब दूसरे सबसे बड़े गठबंधन राकांपा-कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करे, क्योंकि भाजपा-शिवसेना ने सरकार गठन से इंकार कर दिया है।”

नवनिर्वाचित महाराष्ट्र विधानसभा में 105 विधायकों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है। जबकि शिवसेना के पास 56, राकांपा के पास 54 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleअयोध्या की सड़कें सुनसान, 5 हजार लोगों ने अस्थायी राम मंदिर में किए दर्शन
Next articleभाजपा विधायक का वीडियो वायरल, जांच की मांग
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here