नई शिक्षा नीति जल्द सामने आएगी : रमेश पोखरियाल निशंक

0

सरकार जल्द ही एक नई शिक्षा नीति लेकर सामने आएगी। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को यह जानकारी दी। निशंक ने कहा कि नई शिक्षा नीति विश्वभर में भारत का मान बढ़ाने वाली होगी। उन्होंने वीडियों कांफ्रेंसिंग के जरिए यह जानकारी दिल्ली में आयोजित तीसरे स्वच्छता रैंकिग पुरस्कार समारोह में दी। उन्होंने कहा, “हम शिक्षा नीति जल्द देश के सामने लेकर आने वाले हैं और फिलहाल यह कार्य अपने अंतिम चरण में है।”

केंद्रीय मंत्री निशंक ने इस मौके पर स्वच्छता अभियान को सफल बनाने में छात्रों व शिक्षण संस्थानों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने छात्रों से प्रतिदिन एक लीटर पानी बचाने की अपील की है। उन्होंने छात्रों से कहा कि आप प्रतिदिन एक लीटर पानी बचाएं। निशंक ने छात्रों से कहा कि अपने परिजनों व दोस्तों को भी पानी बचाने की इस महत्वपूर्ण मुहिम में शामिल करने के लिए प्रेरित कीजिए।

इस अवसर पर मंत्रालय के उच्च शिक्षा सचिव आर सुब्रामणियम ने कहा कि नई शिक्षा में किए जा रहे बदलाव छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए किए गए हैं। उन्होंने बताया कि शिक्षा नीति में बड़े पैमाने पर सकारात्मक एवं व्यापक बदलाव देखने को मिलेंगे।

इस वर्ष आयोजित स्वच्छता रैंकिग पुरस्कार में देश भर के 6 हजार 900 शिक्षण संस्थानों की भागीदारी रही। इनमें से 52 शिक्षण संस्थानों को स्वच्छ एवं स्मार्ट कैंपस, एक छात्र एक वृक्ष, जल शक्ति अभियान और सौलर ऊर्जा लैंप श्रेणी में पुरस्कृत किया गया। यूनिवर्सिटी के स्तर पर गुंटूर के कोनूरू एजुकेशनल फांउडेशन, राजस्थान की आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी, एसआरएम इंस्टीट्यूट ऑफ सांइस चेन्नई व डॉक्टर एपीजे टेक्नीकल यूनिवर्सिटी लखनऊ टॉप पर रहे।

वहीं कॉलेज के स्तर पर स्वच्छता का पुरस्कार जीतने में कोयम्बटूर का श्रीकिशन आर्ट्स एंड सांइस कॉलेज व सीकर का प्रिंस एकेडेमी ऑफ हायर एजुकेशन शिक्षण प्रशिक्षण महाविद्यालय अग्रणी रहे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleपंकजा मुंडे ने कहा, भाजपा नहीं छोड़ रही हूं
Next articleबैडमिंटन : सिक्की-मेघना, गायत्री दक्षिण एशियाई खेलों के क्वार्टर फाइनल में
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here