स्पेस वॉर की तैयारी के लिए मोदी सरकार ने बनाई नई एजेंसी DSRO

0
73

जयपुर। भारत अब अंतरिक्ष में भी अपनी शक्तियों को बढ़ाने के लिए काम कर रहा है मिशन शक्ति एनीवे परीक्षण जिसमें भारत ने अंतरिक्ष में उपग्रह को असर्ट रॉकेट से मार गिराया था इस सफलता के बाद अब अंतरिक्ष में सुरक्षा के लिए भारत के पास अपनी अलग सी एजेंसी होगी.

सरकार ने अंतरिक्ष में अपनी शक्ति को बढ़ाने के लिए एक अलग से एजेंसी खोली है और इसका नाम रक्षा अंतरिक्ष अनुसंधान एजेंसी रखा गया है वहीं रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार मीडिया में इस जानकारी में बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली सुरक्षा मामलों पर कैबिनेट कमिटी डी एस आर ओ के गठन को मंजूरी दे दी गई.

भाई आपको बता दें कि एजेंसी को स्पेस में युद्ध के लिए तकनीक और प्रौद्योगिकी विकास क्षेत्र विकसित करने का काम भी सौंपा गया है वहीं अब भारतीय सेनाएं आकाश धरती और जल के बाद अंतरिक्ष में भी दुश्मन को मात देने का काम करेगी.

वह इसके अलावा आपको बता दें कि अंतरिक्ष में किसी भी तरह की की लड़ाई होने के लिए सैन्य बल की ताकत में इजाफा करने के लिए मोदी सरकार ने यह बड़ा फैसला लिया है वहीं आपको बता दें कि मीडिया में जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि एजेंसी के गठन को लेकर पहले ही उच्च स्तरीय बैठक हुई थी वहीं संयुक्त सचिव स्तर की वैज्ञानिक की लीडरशिप में एजेंसी ने आ कर लेना भी शुरू कर दिया है.

वही एजेंसी में तीनों सेनाओं के सदस्यों को शामिल कर आ जाने की बात कही जा रही है और अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता अभी बता दे कि सिर्फ अमेरिकी रूस चीन और जापान जैसे देशों के पास ही है लेकिन अब इस तकनीक के भारत में आने के बाद भारत के पास भी ऐसी ताकत होगी यह बताया जा रहा है इसके अलावा कहा जा रहा है कि बेंगलूर स्थित डिफेंस स्पेस एजेंसी की जिम्मेदारी वाइस एयर मार्शल रैंक के अधिकारी को सौंपी जाएगी.

वहीं आपको बता दें कि इसी साल भारत ने मार्च में एंटी सेटेलाइट मिसाइल का सफल परीक्षण किया था और इस परीक्षण के साथ ही भारत ने स्पेस में किसी उपग्रह को मार गिराने की क्षमता को हासिल कर लिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here