जानिए, क्यों अलग थे ‘नेताजी सुभाष चन्द्र बोस’?

0
65

जयपुर। भारत की स्वतंत्रता के लिए देश के कई स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जान दी और कहीं स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी क्रांति से देश और दुनिया में अपनी एक अलग ही पहचान बनाए और इन सभी स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे सुभाष चंद्र बोस जिन्होंने अपना पूरा जीवन देश की आजादी के लिए लगा दिया.

सुभाष चंद्र बोस ने अपने जीवन में जल्द ही देश की स्वतंत्रता के लिए अपनी लड़ाई को शुरू कर दिया था और इसके लिए उन्होंने आजाद हिंद फौज का गठन करके अंग्रेजों की नाक में दम करने वाले फ्रीडम फाइटर को पैदा किया था सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी को 1897 में उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था.

आपको बता दें कि सुभाष चंद्र बोस के माता पिता की 14 संताने थी और सुभाष चंद्र बोस उनके नवे बेटे थे. बताया जाता है कि सुभाष चंद्र बोस अपने पिता की इच्छा के चलते आईसीएस बने और उन्होंने अपने पिता की इच्छा पूरी की इसके अलावा उन्होंने 1920 में आई सी एस परीक्षा में अपना चौथा स्थान पाया मगर सुभाष का मन अंग्रेजों के अधीन काम करने का नहीं था जिसके बाद उन्होंने 22 अप्रैल 1921 में अपने पद से त्यागपत्र दे दिया वहीं सुभाष चंद्र बोस ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी भगत सिंह को फांसी रुकवाने के लिए भरसक प्रयत्न भी करे थे.

इसके अलावा सुभाष चंद्र बोस ने महात्मा गांधी जी से कहा था कि वह अंग्रेजों से किया अपना वादा तोड़ दे लेकिन में भगत सिंह को बचाने में नाकाम रहे इसके अलावा साल 1938 में सुभाष चंद्र बोस कांग्रेस के अध्यक्ष भी बने और कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए गांधीजी ने ही उन्हें चुना था सबसे पहले गांधी जी को राष्ट्रपिता कहकर संबोधित करने वाले भी सुभाष चंद्र बोस की थे और उनका रिश्ता गांधी से हमेशा खट्टा मीठा ही रहा.

वहीं सुभाष चंद्र बोस को अपने जीवन काल में कुल 11 बार जेल जाना पड़ा और 11 बार कारावास की सजा भी काटनी पड़ी आखरी बार 1941 में उन्हें कोलकाता की कोर्ट में पेश ना था लेकिन नेताजी अपने घर से भागकर जर्मनी चले गए और हिटलर से मुलाकात की सुभाष चंद्र बोस जी को नेताजी कहने वाला पहला शख्स एडोल्फ हिटलर ही था.

वह सुभाष चंद्र बोस का जीवन जिस तरीके से रहस्य भरा था. उसी तरीके से उनकी मृत्यु भी रहस्य भरी रही आज तक उनकी मृत्यु की सही तारीख किसी को नहीं पता है ऐसा कहा जाता है कि उनकी मृत्यु प्लेन क्रैश में हो गई थी लेकिन कई बार ऐसी बातें सामने आई है जिससे यह बताया जाता है कि नेताजी की सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु प्लेन क्रैश से नहीं हुई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here