निओ ने बजाई चाइना के बाजार में लक्जरी कार निर्मातओं के लिए खतरे की घंटी

0

जयपुर। निओ ने चाइना के बाजारों में लक्जरी कार निर्माताओं की होन वाली हालत को लेकर अंदेशा दे दिया है और बिगुल बजा दिया है कि यहां के हालात जल्द खराब होने वाले हैं।

किसी कंपनी के शुरुआती सार्वजनिक पेशकश के बाद एक साल से भी कम समय में एक शीर्ष बॉस का इस्तीफा  अगर शेयरधारकों द्वारा मांगा जाता है तो इसकी कोई बडी वजह ही रही होगी।  सितंबर 2018 में सूचीबद्ध होने के बाद से Nio के शेयर की कीमत लगभग 60% कम हो गई है और यह शुक्रवार की खबर से और भी गिर गया। यह जानना बेहद आवश्यक है कि फोर्ड के पूर्व कार्यकारी अधिकारी, ह्वास त्सॉन्ग चेंग रिटायर हो जाएंगे।

यह मुख्य कार्यकारी ली बिन के सिरदर्द में जोड़ता है: उन्होंने जुलाई में केवल 837 कारें बेचीं जो कि उनके लक्ष्य से काफी कम थी इतना ही नही कंपनी ने अपनी फुटबॉल टीम भी बेच दि है। कंपनी के हालात बेहद खराब है और यह बाकी कंपनियो के लिए भी संकेत है कि उनके साथ भी ऐसा कुछ कभी भी हो सकता है

टेस्ला, मर्सिडीज और बीएमडब्ल्यू में कार्यकारी अधिकारी, लगभग उसी धनी खंड को लक्षित करते हैं जो कि एनआईओ लक्षित करता है, इसका मतलब है कि कंपनियां खुद को सांत्वना दे सकता है कि कंपनी की परेशानी काफी हद तक उसकी स्वयं की है। जबकि वास्तविकता ये है कि कंपनी को चीन के बाजार में चल रही मंदी का सामना करना पड रहा है।

गौरतलब है कि जुलाई में लगातार 13 वें महीने गिरने वाली समग्र कार बिक्री को लाल झंडी दिखाने के बावजूद, बीएमडब्लू ने उस महीने 53,953 वाहनों को स्थानांतरित कर दिया, और 15.6% की वार्षिक वृद्धि दर्ज की। मगर समस्या वही है कि मंदी के कारण मांग नही है और इन एक जैसी टारगेट ग्राहकों के समुह वाली कंपनियों का एक एक करके पतन हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here