NEET exam समाप्त, टेस्ट देने पहुंचे 90 फीसदी छात्र

0

रविवार को देशभर में आयोजित की गई नीट परीक्षाओं में 85 प्रतिशत से अधिक अभ्यार्थियों ने हिस्सा लिया। रविवार दोपहर 2 बजे से दिल्ली के 111 केंद्रों समेत देशभर में 3862 परीक्षा केंद्रों पर नीट का टेस्ट लिया गया। नीट परीक्षा के लिए सबसे अधिक केंद्र महाराष्ट्र में बनाए गए थे। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी यानी एनटीए के मुताबिक इस वर्ष 16 लाख छात्रों ने नीट प्रतियोगी परीक्षा का फॉर्म भरा था।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, “राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी ने मुझे सूचित किया है कि रविवार को आयोजित की गई नीट परीक्षा में 85 से 90 प्रतिशत तक छात्र शामिल हुए हैं।”

गौरतलब है कि इससे पहले 1 से 6 सितंबर के बीच आयोजित की गई जेईई परीक्षाओं में भी लगभग 85 प्रतिशत अभ्यार्थी शामिल हुए थे।

केंद्रीय मंत्री निशंक ने नीट परीक्षा के सफल आयोजन और व्यवस्था के लिए सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों और राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी का धन्यवाद किया।

निशंक ने कहा, “नीट परीक्षा में छात्रों की भागीदारी युवाओं के तप, धैर्य और आत्मनिर्भर भारत को दर्शाती है।”

देशभर में रविवार दोपहर 2 बजे से नीट परीक्षा ली गई जो रविवार शाम समाप्त हुई। जेईई की ही भांति नीट परीक्षाओं के लिए भी सभी परीक्षा केंद्रों पर विशेष इंतजाम किए गए थे। यहां सोशल डिस्टेंसिंग का सबसे अधिक ध्यान रखा गया। दिल्ली में 111 केंद्रों पर नीट की परीक्षा आयोजित की गई हैं। वहीं पूरे देश भर में 3862 केंद्रों पर यह परीक्षा ली गई।

वेद – शांति, एकता, अहिंसा और मानव मूल्यों का मूल : Nishank

परीक्षा केंद्रों के मुख्य द्वार पर ही थर्मल स्कैनर से सभी अभ्यार्थियों का तापमान जांचा गया। एनटीए यानी राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी द्वारा तय नियम के मुताबिक एक परीक्षा केंद्र पर एक समय में 90 छात्रों ने ही प्रवेश किया। परीक्षा खत्म होने के बाद 24-24 के ग्रुप में छात्रों को बाहर लाया गया। ऐसा इसलिए किया गया ताकि परीक्षा केंद्रों पर छात्रों की भीड़ न लगे और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन हो सके। परीक्षा केंद्र पर छात्रों ने कोरोना लक्षण न होने का सेल्फ डिक्लेरेशन भी दिया।

दिल्ली में नीट परीक्षा के लिए जहां 111 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, वहीं उत्तर भारत में सबसे अधिक 320 परीक्षा केंद्र उत्तर प्रदेश में रहें। महाराष्ट्र में 615 परीक्षा केंद्र बनाए गए। 322 परीक्षा केंद्र केरल में थे।

एनटीए ने कहा, “कोरोना संक्रमण के प्रति सावधानी बरतते हुए प्रत्येक परीक्षा केंद्र को सैनिटाइज किया गया। परीक्षा केंद्र के फर्श, दीवारों, फर्नीचर, लिफ्ट, सीढ़ियां और रैम आदि सभी स्थानों को पूरी तरह से सैनिटाइज करने की व्यवस्था की गई थी।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleश्रद्धा और राजुमार राव की सुपरहिट फ़िल्म स्त्री अब जापान में होने जा रही है रिलीज, श्रद्धा ने दी चेतावनी
Next articleUmar Khalid Delhi Violence: उमर खालिद की गिरफ्तारी पर प्रशांत भूषण ने उठाए सवाल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here