इंफैक्शन और पीलिया जैसी कई गंभीर बीमारियों में रामबाम इलाज है नीम, इस तरह करें इस्तेमाल

0
836

जयपुर। आयुर्वेद में नीम को एक चमत्कारी वृक्ष बताया गया है जो लगभग सभी बीमारियों में रामबाण इलाज की तरह काम करती है। नीम बेशक ही स्वाद में कडवा हो लेकिन अपने औषधिय गुणों के कारण स्वास्थ के लिए इसे बहुत मीठा बताया जाता है। ना सिर्फ गंभीर रोगों से छुटकारा पाने में बल्कि इसे सुंदरता बढाने वाली औषदि भी कहा जाता है। नीम के पेड का हर हिस्सा स्वास्थ को कोई ना कोई लाभ को पहुंचाता ही है। इसके पत्ते, छाल, फल, तेल आदि इंसान को रोगमुक्त बनाकर डायबिटिज, बैक्टीरिया और वायरस को दूर करने में मददगार होते हैं। नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों को रोग प्रतिरोधक क्षमता का लिए और इसकी छाल को मलेरिया और त्वचा विकारों के साथ बहुत असरकारी बताया जाता है। इसलिए आज हम आपको नीम के सेवन से मिलने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं-

इफैक्शन में राहत

किसी भी प्रकार की चोट या फिर इंफैक्शन पर नीम का तेल या पत्‍तों को पीसकर लगाने से जल्द राहत मिलती है। इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक गुणों से टिटनेस का खतरा नहीं रहता। आप चाहें तो नीम की पत्तियों को पानी में उबाल कर और ठंडा करके उस पानी से मुंह धो सकते हैं या पिर नहा सकते हैं। इससे भी इंफैक्शन दूर होता है।

पीलिया

पित्ताशय से आंत में पहुंचने वाले पित्त में रुकावट के कारण पीलिया की बीमारी होती है। इस बीमारी से निपटने के लिए रोगियों को नीम के पत्तों के रस में सोंठ का चूर्ण मिलाकर नियमित सेवन करवाना लाभकारी रहता है। आप चाहें तो सिर्फ दो भाग नीम की पत्तियों का रस और छाल का क्‍वाथ को शहद मिलाकर पीने से जल्द रात मिलती है।

पथरी से छुटकारा

पथरी एक गंभीर बीमारी है जिससे आसानी से निपटने के लिए लगभग 150 ग्राम नीम की पत्तियों को 1 लीटर पानी में पीसकर उबाल लें औऱ सामान्य होने पर इसका सेवन करना चाहिए। अगर आप इसका नियमित सेवन करते हैं तो पथरी टूटकर बाहर निकल जाती है।

बेहतर पाचन

पाचन संबंधी समस्याओं से निपटने और पेट के कीड़ों से राहत पाने में नीम के पत्तों बहुत फायदेमंद होते हैं। इसके लिए नीम के रस में शहद और काली मिर्च मिलाकर सेवन करना फायदेमंद रहता है। आप चाहें तो नीम के फूलों को मसलकर गर्म पानी में डालकर छानकर पीना चाहिए। इससे कब्ज की समस्या में राहत मिलती है।

डायबिटीज

नीम को डायबिटीज की रामबाण औषधि माना जाता है इसलिए नियमित सुबह-शाम नीम का सत्व या जूस लेने से डायबिटीज काफी कंट्रोल रहती है। आप चाहें तो नीम के पत्तों का जूस और एलोवेरा जूस के साथ मिलाकर रोजाना सुबह खाली पीने से शुगर नियंत्रित रहता है।

स्किन केयर

नीम का जूस या फिर इसकी पत्तियों का जूस पीने से रक्त विकार दूर होते हैं जिससे त्वता विकार दूर होते हैं और चेहरा चमकरदार बनता है। नीम के तेल से शरीर पर मालिश करना भी काफी फायदेमंद रहता है औऱ आपकी त्वचा स्वस्थ रहती है। आप चाहें तो नहाते समय नीम की ताजी पत्तियों को पानी में डालकर इस पानी से नहा सकते हैं।

हेयर केयर

नीम को सिर्फ शरीर और त्वचा के लिए ही नहीं बल्कि बालों के लिए भी नेचुरल कंडीशनर बताया जाता है। इसकी पत्तियों को पानी में उबालकर और पीसकर इसका पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को शहद में मिलकार बालों में लगाएं। इससे रूसी को दूर होगी ही साथ ही बाल मजबूत मुलायम और चमकदार भी बनेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here