एनसीएएलटी ने आईएलएंडएफएस समूह की 33 कंपनियों को कर्ज देनदारियां चुकाने को कहा

0
157

राष्ट्रीय कंपनी विधि अपील अधिकरण (एनसीएलएटी) ने सोमवार को कर्ज से लदी इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंसियल सर्विसेज (आईएलएंडएफएस) समूह की 133 विदेशी और 22 घरेलू कंपनियों द्वारा कर्ज चुकाने पर लगे स्थगन को रद्द कर दिया है। इससे पहले एनसीएलएटी ने कर्ज से लदे समूह की सहयोगी कंपनियों को 90 दिन तक कर्ज चुकाने से राहत दी थी।

समूह पर कुल 91,000 करोड़ रुपये का संयुक्त कर्ज है, जो इसकी 133 सहायक कंपनियों पर है, जिसका गठन देश से बाहर किया गया है, जिसमें आईएलएंडएफएस अफ्रीका इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कंपनी, आईएलएंडएफएस ग्लोबल फाइनेंस सर्विसेज (यूके) और आईआईएमएल फंड मैनेजर्स (सिंगापुर) पीटीई लि. शामिल है।

इसके बाद, अब इनमें से कुछ कंपनियों को सहमति की शर्तो के मुताबिक कर्जदाताओं को उनसे लिए गए कर्ज का भुगतान करना होगा। हालांकि इनमें से कई कंपनियां ऐसी हैं, जिनकी वित्तीय हालत खस्ताहाल है, ऐसे में उन्हें नीलामी का सामना करना पड़ेगा।

इन विदेशी कंपनियों के अलावा आईएलएंडएफएस की कुल 169 सहयोगी कंपनियों में से 22 कंपनियां ऐसी हैं, जिनका गठन भारत में हुआ है, उन्हें भी कर्ज स्थगन की राहत मिली हुई थी, जो हटा ली गई है।

इसके अलावा, एनसीएलएटी ने आईएलएंडएफएस समूह और उसकी सहयोगी कंपनियों के ‘समाधान प्रक्रिया’ के नजर रखने के लिए सर्वोच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश डी. के. जैन को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।

वर्तमान में समूह की केवल 22 कंपनियों की हालत ठीक-ठाक है। इस श्रेणी की कंपनियों में आईएलएंडएफएस इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स, आईएलएंडएफएस सिक्युरिटी सर्विसेज और आईएलएंडएफएस पारादीप रिफाइनरी वाटर समेत अन्य शामिल हैं।

समूह की कंपनियों को समाधान सलाहकार द्वारा पिछले एक साल के नकदी के आधार पर तीन समूह -‘ग्रीन’, ‘अंबर’ और ‘रेड’ में बांटा गया है। अब तक समूह की 169 कंपनियों में से 69 का वर्गीकरण किया गया है।

वर्गीकरण नियम के तहत ‘ग्रीन’ कंपनियों में वे कंपनियां शामिल हैं, जिनके पास कर्ज को चुकाने का धन है। ‘अंबर’ वे कंपनियां हैं, जो कर्ज का एक हिस्सा चुकाने में सक्षम हैं, जबकि ‘रेड’ वर्गीकरण उन कंपनियों का किया गया है, जो खस्ताहाल हैं और कर्ज की वसूली के लिए उनकी नीलामी के अलावा दूसरा रास्ता नहीं है।

पिछले साल सरकार ने एनसीएलटी के आदेश के माध्यम से आईएलएंडएफएस समूह के निदेशक मंडल को भंग कर नया निदेशक मंडल नियुक्त किया था, जिसकी अगुवाई कोटक महिंद्रा बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी उदय कोटक कर रहे हैं।

91,000 करोड़ रुपये से लदी इस समूह में सरकारी कंपनियों एलआईसी और एसबीआई की क्रमश: 25.34 फीसदी और 6.42 फीसदी हिस्सेदारी है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleलखनऊ में राहुल, सिंधिया के साथ प्रियंका का हुआ भव्य स्वागत (राउंडअप)
Next articleइंडिया-ए के बल्लेबाजी कोच को लेकर बीसीसीआई-सीओए में मतभेद उजागर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here