कश्मीर मुद्दे पर नेकां नेता ने की पाकिस्तान की भूमिका की तारीफ

0
75

नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) के नेता और सांसद अकबर लोन ने कश्मीर मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठाने और भारत पर दबाव बनाने को लेकर पाकिस्तान की भूमिका की तारीफ की।

हालांकि, उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में जब भी मतदान होंगे उनकी पार्टी चुनाव में उतरेगी।

आईएएनएस को दिए एक साक्षात्कार में लोन ने कहा, “पूर्व में चुनाव लड़ना एक मजबूरी रही क्योंकि कश्मीरियों का भारत से संबंध नहीं है।”

उन्होंने कहा, “नए चुनावों में से नई विधानसभा को क्या अधिकार दिए जाएंगे पहले हमें यह जानना होगा। नेशनल कॉन्फ्रेंस का कार्यकर्ता होने के नाते में बताना चाहता हूं, यदि चुनाव होते हैं, तो हमें उसमें हिस्सा लेना ही होगा।”

अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने और जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने पर, उन्होंने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियों को चाहिए कि वे राज्य के विशेष दर्जे को पुन: लागू कराने के बाबत एक साथ आएं और एक स्वर में बात करें।

लोन ने आगे कहा, “सभी पार्टी जैसे, कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी और सभी छोटी बड़ी पार्टियों को चाहिए कि वह साथ आएं और राज्य के विशेष दर्जे को वापस बनाए रखने के लिए कार्य करें।”

लोन ने कहा कि विशेष दर्जा छिने जाने के बाद राज्य में लगाए गए प्रतिबंध कश्मीरी के लोगों को अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करने से रोक रहे हैं।

उन्होंने कहा, “कश्मीर में सेना का शासन है। राज्य की प्रत्येक गली और नुक्कड़ पर सेना और अर्धसैनिक बलों का पहरा है। लोगों को बाहर आने की इजाजत नहीं है। यदि उन्हें बाहर आने दिया जाएगा तो वह अपनी नाराजगी जाहिर करेंगे।”

उन्होंने कहा कि वह कश्मीर के मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीय करण करने के लिए और भारत की सरकार पर दबाव बनाने के लिए पाकिस्तान की भूमिका की सराहना करते हैं।

लोन ने कहा, “यह अच्छी बात है कि अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान, चीन, अमेरिका या फिर दूसरे देश कश्मीर मुद्दे को लेकर बाते कर रहे हैं।”

लोन ने पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला की तुरंत रिहाई की मांग की। उन्होंने साथ ही कहा कि भविष्य की योजना पर चर्चा करने के लिए पार्टी नेतृत्व को इन वरिष्ठ नेताओं से मिलने की अनुमति दी जाए।

लोन ने कहा, “हमें अपने नेताओं से मिलने की अनुमति दी जाए और उन्हें तुरंत रिहा किया जाए।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleअमेजन सबसे बड़ा वैश्विक कैंपस बना हैदराबाद की पहचान
Next articleधीरे-धीरे इंडस्ट्री से मिटता जा रहा इन दिग्गज अभिनेताओं का नाम, नंबर 1 पर नहीं होगा यकीन
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here