पाकिस्तान में भी फैला था अटल जी का करिश्मा, नवाज ने कहा था यहां भी जीत सकते हैं चुनाव

0

जयपुर। देश के पूर्व प्रधानमंत्री और  सर्व मान्य नेता अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार को श्याम को 5:05 बजे निधन हो गया। उनके निधन के बाद देश मे शोक की लहर छा गई है। सरकार ने वाजपेयी के सम्मना में देश मे 7 दिन का शोक घोषित किया है। जिसके बाद भारत का तिरंगा नीचे किया जाएगा।  वहीं वाजपेयी जी को शुक्रवार को दिल्ली के स्मृति स्थल पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। उससे पहले उनको गुरुवार को श्याम को दिल्ली में स्थित उनके घर लाया गया था। जहां सभी लोग उनके आखिरी दर्शन के लिए आ सकते थे। इसके बाद सुबह करीब 9 बजे उन्हें बीजेपी के मुख्यालय ले जाया जाएगा।

 

उनके निधन के बाद देश सदम में है,और इस नेता के निधन पार देश ही नहीं बल्कि विदेशो ने अपना शोक जताया है, जापान, ब्रिटेन,चीन, पाकिस्तान,श्रीलंका, आदि देशो ने अपनी श्रदांजलि दी है।

आज हम आपको वो किस्सा बताने वाले है जिस के बाद आपको महसूस होंगा की किस तरह भारत में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में भी वो कितने लोकप्रिय थे।

अटल जी अपने शांति प्रिय व्यवहार के कारण जाने जाते है, उन्होंने भारत और पाकिस्तान में शांति के लिए भी कई काम किए और कश्मीर में भी शांति स्थापित हो इसके लिए काम किए है।

अटल बिहारी वो नेता थे जिन्होंने भारत पाकिस्तान के बीच पहली बस शुरू की थी और इसके बाद 1999 में वाजपेयी ने अपनी लाहौर यात्रा के दौरान एक भाषण में शांति की जोरदार अपील की थी, जिसके बाद पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने टिप्पणी की थी,”वाजपेयी जी, अब तो आप पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकते है।”

ये बताता है की किस तरह एक नेता अपने दुश्मन को भी मित्र बना लेता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here