अपने मिशन पर आखिरी पड़ाव पर है नासा का कैसीनि उपग्रह

0
55

जयपुर। नासा अंतरिक्ष की दौड़ में सबसे आगे चल रहा है। यह आये दिन कुछ न कुछ  करता रहता है। अंतरिक्ष में यान भेजता रहता है अलग अलग मिशन को सफलता पूर्वक कर रहा है। हा  ही में नासा का कैसीनि अंतरिक्ष यान शनिग्रह  के अपने मिशन के आखरी पड़ाव में है। यह उपग्रह 20 साल से अंतरिक्ष में यात्रा कर रहा है। और 1 लाख 13 हजार किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से यह शनि के वलयाकार ग्रह की ओर बढ़ रहा है। अमेरिका के नासा ने कहा है कि कैसीनि शनि ग्रह की सीमा में सफलता से प्रवेश करने जा रहा है

और जब ये शनि ग्रह के वलयाकार में प्रवेश कर जाता है तो यह शनि के उपग्रहों – विशेषकर एनसेलाडस की सतह पर मौजूद उन सागर और हाइड्रोथर्मल गतिविधियों के संकेतों को के बारे में जानकारीयों भेजेगा। जो अब तक दुनिया के वैज्ञानिकों की नजरों से दूर थे। मिशन के ग्रैंड फिनाले के तहत अंतरिक्षयान की यह अंतिम यात्रा 15 सितंबर को पूरी होगी। अब तक कोई अंतिरक्षयान इससे पहले इस ग्रह के इतना करीब नहीं पहुंचा पाया है।

इस मिशन की अंतिम गणनाओं में अनुमान है कि ग्रह के अनुमानित वायुमंडल से करीब 1,915 किलोमीटर ऊपर की ऊंचाई पर पहुंचने के एक मिनट बाद अंतिरक्षयान कैसीनि के साथ संपर्क टूट जायेंगा। वैज्ञानिकों  ने बताया कि ग्रह के वायुमंडल में गोता लगाने के दौरान यान की गति करीब 1 लाख 13 हजार किलोमीटर प्रतिघंटा होगी। नासा के जेट प्रपल्शन लैबरेटरी (जेपीएल) में कैसीनि प्रॉजेक्ट मैनेजर अर्ल मेज ने बताया है कि अंतरिक्षयान का अंतिम संकेत किसी प्रतिध्वनि के समान होगा और यह कैसीनि के खुद जाने के बाद पूरी सौर प्रणाली में करीब डेढ़ घंटे के लिए प्रसारित होगा जिसे हमें  जानकारी मिलती रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here