नासा के एस्ट्रोनॉट बने जॉनी किम का सफर, नेवी अफसर से डॉक्टर और अब बनेंगे नासा के एस्ट्रोनॉट

0

जयपुर।नासा के नए एस्ट्रोनॉट जॉनी किम पहले कोरियाई-अमेरिकी नासा अंतरिक्ष यात्री के रूप में इतिहास बनाने वाल है, जो कि स्पेस स्टेशन को असाइनमेंट्स पर चंद्रमा तक लेकर जायेंगे या फिर मंगल पर पहले मानव अन्वेषण मिशन पर जाने वाले बन सकते है।लेकिन कोरियाई मूल के जॉनी किम की नासा तक पहुंचने का सफर बड़ा रोचक है।जिंदगी में बहुत ही लोग जॉनी किम की होते है जो कि जिन्दगी भरपूर रोचक बनाते है।जॉनी किम ने बिना डरे, बिना रुके और बिना फेलियर की चिंता किए अब तक तीन सफल करियर बन चुके है।

नासा के नए एस्ट्रोनॉट बने जॉनी किम 35 साल के हो चुके है और कोरियाई अमेरिकी नागरिक के रूप में अपनी पहचान रखने के साथ लॉस एंजेलिस में इनका निवास स्थान है। जॉनी किम सबसे पहले नौसेना में सैनिक बने थे और इसके बाद डॉक्टर बनकर देश को अपनी सेवाएं दी है।जिसके बाद अब जॉनी किम का अगला कदम एस्ट्रोनॉट के क्षेत्र में बढ़ा है।

डेलीमेल में प्रकाश‍ित जॉनी किम के प्रोफाइल इंटरव्यू में में बताया गया है कि जॉनी किम के नौसेना में भर्ती होने के उनको इस बात पर यकीन हुआ कि वह कुछ भी कर सकते है,क्योंकि पहले उनकी आत्मविश्वास की कमी थी।अमेरिकी नौ सेना में लगभग 100 कॉमबैट मिशन में स्पेशल ऑपरेशन कॉमबैट मेडिक, एक स्नाइपर सैनिक व नैविगेटर और

प्वाइंटमैन के पदों पर अपनी सेवा दे चुके हैै।जिसके बाद अब उनका अगला कदम नासा के नवीनतम अंतरिक्ष यात्री के रूप में शामिल हो चुका है।

जॉनी किम को एक मिशन के लिए नासा ने प्रशिक्षण देकर स्नातक किया है और अब वह 11 अन्य अंतरिक्ष यात्रियों के साथ अंतरिक्ष मिशन पर जाने वाले है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here