अगर आपको हैं रहस्यमयी जगहो पर जाने का शौक तो जरुर जाएं राजस्थान के इस गाँव में

0
166

आभानेरी जयपुर से 95 कि.मी की दूरी पर हैं। यह जगह दौसा जिले के पास स्थित हैं। यह जगह इसके अजीब बनावट वाली बाओरी को लिए मशहूर हैं। इसे चाँद बाओरी के नाम से भी जाना जाता हैं। यह जगह यहाँ की सबसे सुंदर जगहो मे से एक हैं। माना जाता है कि आभानेरी गांव की स्थापना सम्राट मिहिर भोज ने की थी, जो गुर्जर प्रतिहार राजा थे।घूमने की जगहें  –

चाँद बाओरी – यहां मौजूद सभी स्टेपवेलों में से, चांद बाओरी सबसे प्रसिद्ध है और व्यापक रूप से अपनी सुंदर पत्थर की वास्तुकला के लिए जाना जाता है। यह भारत के सबसे बड़े और गहरे सौतेलों में से एक है।

हर्षतमाता मंदिर -हर्षत माता मंदिर एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है जो मध्यकालीन भारत के अद्भुत भव्यता का दावा करता है। मंदिर हर्षत माता को समर्पित है, जिन्हें आनंद और खुशी की देवी माना जाता है।

सभ्यता –

यह जगह अपने लोक नृत्य घूमर, कालबेलियाँ और भावनी के लिए बहुत मशहूर हैं। घूमर भील जनजाति का एक नृत्य है जबकि कालबेलिया कालबेलिया जनजाति की महिलाओं द्वारा किया जाने वाला नृत्य है, जो सांपों को पकड़कर उनका जहर बेचकर अपना जीवन बीताते हैं।

कैसे पहुचा जाएं

यह गाँव जयपुर से 95 कि.मी दूर हैं। यहां आप कैसे भी जा सकते हैं। आप चाहे किसी भी जगह से हो आप यहा पर आसानी से पहुँच सकते हैं। इसकी शानदार अतीत और रंगीन संस्कृति के कारण, दुनिया भर से बड़ी संख्या में पर्यटक इसकी दहलीज पर आकर्षित होते है।

सही समय –

आभानेरी जाने का सबसे सही समय अक्टूहर से लेके मार्च तक का होता हैं इस समय में यहां का मौसम हल्का सा ठंडा रहता हैं।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here