गलत जादूई मंत्र से ज़िंदा हो जाती है ममी और कर देती है सब तबाह

0
78

जयपुर। मिस्र को जब भी जबां पर लाते है तो सबसे पहले दो बात का ख्याल जरूर आता है इस मिस्र के पिरामिड और दुसरा ममी। ममी एक सबका रूचि का विषय है। सब इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानने की कोशिश करते है इनके किस्से भी बहुत ही रहस्यमय होते है। मिस्र के पिरामिड ये दुनिया के सात अजूबों में से एक कहे जाने वाले है। आपको बता दे की पिरामिड में रखे गए, प्राचीन शासकों के शव को हम ‘ममी’ के नाम से जानते हैं। ममी को लेकर तमाम क़िस्से-कहानियां आपने सुनी है। मिस्र की ममी पर हॉलीवुड में एक फ़िल्म भी बनाई गई है

इसका  नाम द ममी है। इस फ़िल्म में सोफ़िया बौतेला एक चुड़ैल की ममी का किरदार निभाया है जो गलती से छेड़ दिए जाने पर जाग उठती है। आपको बता दे की इसका सिलसिला क़रीब एक सौ साल पहले शुरू हुआ था। ये 1920 के दशक में मिस्र के राजा तूतनख़ामेन की क़ब्र से उनकी ममी निकाली गई थी। आपको ये जानकर हैरानी होगी की 1920 के दशक में तूतेनख़ामेन की क़ब्र खोदने के काम दौरान इस मिशन से जुड़े कई लोगों की मौत की ख़बर आई थी,

इस मिशन में पैसे लगाने वाले ब्रिटिश रईस लॉर्ड कार्नारवॉन की भी मच्छर काटने से मौत हो गई थी तो लोगों ने इसे फैरो तूतनख़ामेन के श्राप का नतीजा बताया गया। इस पर एक फिल्म है जिसमें  फ़िल्म में मिस्र के पुजारी ‘इम्होतेप’ की ममी के ज़िंदा हो उठने की कहानी थी।  जिसकी गलती से एक जादुई मंत्र पढ़ने की वजह से फिर से ज़िंदा हो उठी थी जो कुछ सब तबाह कर देती थी। इस फिल्म का स्क्रीनराइटर जॉन एल बाल्डरस्टोन नै किया था।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here