मोर्निंग न्यूज बुलेटिन, सोमवार (16 अप्रैल), एक नजर बड़ी खबरों पर !

0
325

दिग्विजय ने स्वीकारी अपने कार्यकाल में दलितों पर अत्याचार की बात : भाजपा

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह पर भाजपा ने हमला बोला है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा है कि दिग्विजय सिंह ने छह माह बाद ट्विटर पर वापसी करते हुए स्वयं स्वीकार लिया है कि उनके कार्यकाल में राज्य में अनुसूचित जाति व जनजाति पर किस तरह से अत्याचार होते थे।

आईपीएल-11 : पंजाब ने घर में चखाया चेन्नई को पहली हार का स्वाद

अपने कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (79) की शानदार पारी के बावजूद चेन्नई सुपर किंग्स इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में रविवार को खेले गए अपने तीसरे मैच में चार रनों से हार गई।

कांग्रेस ने कहा, प्रधानमंत्री मप्र की प्रीति को भी न्याय दिलाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कठुआ और उन्नाव की घटनाओं को लेकर दिए गए बयान ‘गुनहगार बचेंगे नहीं, बेटियों को न्याय मिलेगा।’ से मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की उम्मीद जगी है।

उप्र : मुठभेड़ों में 4 इनामी गिरफ्तार, सिपाही जख्मी

उत्तर प्रदेश की आजमगढ़ पुलिस ने रविवार तड़के जनपद के दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों में हुई मुठभेड़ों में दो बदमाशों को घायल कर चार 25 हजार के इनामी बदमाशों को गिरफ्तार किया।

योगी दलितमित्र कैसे, उपाधि में चापलूसी की बू : भाकपा

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी लेनिनवादी) ने दलित अधिकार कार्यकर्ता पूर्व आईपीएस अधिकारी एस.आर. दारापुरी, पूर्व आईएएस हरिश्चंद्र व साथियों की गिरफ्तारी की निंदा की है और कहा है कि दलित विरोधी मुख्यमंत्री को ‘दलितमित्र’ की उपाधि से नवाजा जाना समझ से परे है। इसमें चापलूसी की बू आती है।


SHARE
Previous articleयोगी दलितमित्र कैसे, उपाधि में चापलूसी की बू : भाकपा
Next articleकर्नाटक : कांग्रेस ने 218 उम्मीदवारों की सूची जारी की
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here