इराक के मोसुल से 5,228 से अधिक शव बरामद

0
76

इराक के मोसुल शहर में ध्वस्त इमारतों के मलबे से बीते महने 5,200 से अधिक शव बरामद किए गए हैं। मोसुल नगरपालिका के लाइथ जैनी कहते हैं, “बीते महीने 5,228 शव बरामद हुए जिनमें से 2,658 नगारिकों के शव हैं जबकि 2,570 इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के।”

जैनी ने कहा, “आज (गुरुवा) हमने शवान शहर में मलबे से छह अज्ञात लोगों के शव बरामद किए हैं। हमारा मानना है कि मलबे में अभी 500 से 700 तक शव और हैं।” जैनी का कहना है कि आईएस आतंकवादियों के शवों की पहचान होने के बाद इन्हें अलग कब्रिस्तान में दफनाया जाएगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleकैटरीना के फोटोशूट पर अर्जुन कपूर ने कर दिया ऐसा कमेंट पढ़कर हो जाएंगे हैरान
Next articleरणवीर संग काम करने का अनुभव बेहतरीन रहा : मानुषी छिल्लर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here