मूडीज ने भारत की क्रेडिट रेटिंग आउटलूक फिर से गिराई

0
128

जयपुर। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस द्वारा भारत की क्रेडिट रेटिंग आउटलुक को स्थिर से नकारात्मक कर दिया गया। मूडीज ने बढ़ते कर्ज के बोझ और बजट घाटे को कम करने के सरकार के संघर्ष का हवाला दिया। रेटिंग कंपनी ने दूसरी सबसे कम निवेश ग्रेड स्कोर Baa2 में देश की विदेशी जारीकर्ता रेटिंग की पुष्टि की।

आपको बता दें रेटिंग ऐजेंसी ने वित्तीय तनाव, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में, और निम्न रोजगार सृजन जैसे मुद्दो को इस रेटिंग का आधार बनाया है। रेटिंग ऐजेंसी ने सरकार के रवैये पर भी फैसला सुनाया था।

आर्थिक परेशानियों से जूझती सरकार सरकार के लिये यह एक और परेशानी का सबब है। इस गिरावट के कारण अब सरकार पर और अधिक दबाव बनेगा जो सरकारी तंत्र  को और अधिक स्लो कर देगा।

मूडीज के अनुसार निवेशक आगे, लंबे समय तक चलने वाली कमजोरी के संकेतों के लिए देश के सकल घरेलू उत्पाद डेटा को बारीकी से देखेंगे। इस बीच, गैर-बैंक वित्तीय क्षेत्र में स्थिरीकरण, ऋण सकारात्मक होगा और बैंकों में नकारात्मक स्पिलओवर के कम जोखिम को चिह्नित कर सकता है। हालांकि फिच रेटिंग और एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग अभी भी भारत के दृष्टिकोण को स्थिर बनाए हुए हैं।

गौरतलब है कि भातर मे आर्थिक परेशानियों का स्तर लगातार बढता जा रहा है, और इससे भी बढी समस्या ये है कि इसका कोई समाधान भी नजर नहीं आ रहा है। जिससे हो ये रहा है कि भारत की आर्थिंक स्थिती खराब होती जा रही है। ऐसे में आवश्यक है कि सरकार कुछ नये फैसले ले जो इस स्तिथी से देश को शीध्र अतिशीघ्र निकाल लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here