Modi government को ग्रामीण जल संकट को समाप्त करने के लिए 213 प्रस्ताव मिले

0

केंद्र ने स्मार्ट वाटर सप्लाई मेजरमेंट को विकसित करने के लिए इनोवेटिव, मॉड्यूलर और लागत प्रभावी (कॉस्ट इफेक्टिव) समाधान बनाने की चुनौती के लिए विभिन्न भारतीय तकनीकी स्टार्ट-अप, एमएसएमई, कंपनियों और एलएलपी से 213 प्रस्ताव प्राप्त किए हैं। इस निगरानी प्रणाली को ग्रामीण स्तर पर तैनात किया जाना है। यह एक आईसीटी ग्रैंड चैलेंज का हिस्सा है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रोजेक्ट राष्ट्रीय जल जीवन मिशन की ओर से इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की साझेदारी में लॉन्च किया गया है।

इन 213 प्रस्तावों की अब मंत्रालय की ओर से नियुक्त जूरी समिति द्वारा जांच की जाएगी और प्रस्तावों का चयन किया जाएगा। महत्वाकांक्षी मिशन बुनियादी ढांचे के निर्माण के बजाय सेवा वितरण पर केंद्रित है।

इस तरह की तकनीकी चुनौती ग्रामीण क्षेत्रों में जल आपूर्ति प्रणालियों की दीर्घकालिक स्थिरता सुनिश्चित करने का एक शानदार अवसर प्रदान करती है।

इस चुनौती के माध्यम से, केंद्र ग्रामीण क्षेत्रों में जल आपूर्ति की सेवा की निगरानी के लिए स्मार्ट ग्रामीण जल आपूर्ति इको-सिस्टम बनाने के लिए भारत के जीवंत आईओटी पारिस्थितिक तंत्र के दोहन के लिए आशान्वित है।

केंद्र ने कहा, “यह चुनौती जल जीवन मिशन के लिए काम करने और देश के हर ग्रामीण परिवार को कार्यात्मक घरेलू नल कनेक्शन के माध्यम से पीने योग्य पानी की आपूर्ति का आश्वासन देने का अवसर प्रदान करेगी।”

इस पायलट परियोजना का संचालन 100 गांवों में किया जाएगा। सबसे अच्छे समाधान (सॉल्यूशन) को 50 लाख और रनर अप को 20 लाख रुपये का नकद पुरस्कार मिलेगा।

केंद्र सरकार के प्रमुख कार्यक्रम जल जीवन मिशन (जेजेएम) को 2024 तक प्रत्येक ग्रामीण परिवार को कार्यात्मक घरेलू नल जल कनेक्शन (एफएचटीसी) प्रदान करने के लिए राज्यों के साथ साझेदारी में कार्यान्वित किया जा रहा है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleShopian encounter में 1 आतंकवादी ढेर
Next articleIPL 2020 में किस बल्लेबाज के बल्ले से निकले हैं सबसे ज्यादा अर्धशतक, लिस्ट देखें
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here