मोडर्ना ने अमेरिका, यूरोपीय रेगुलेटर्स से corona vaccine के प्रयोग के लिए अनुमति मांगी

0

मोडर्ना इंक ने सोमवार को घोषणा कर कहा कि वह कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन प्रयोग की इजाजत के लिए अमेरिकी और यूरोपीय नियामकों से अनुमति की प्रक्रिया के लिए आगे बढ़ रहा है। मोडर्ना कोविड-19 वैक्सीन 94 प्रतिशत तक प्रभावी है।

इससे बमुश्किल एक सप्ताह पहले फाइजर और इसके जर्मन सहयोगी बायो एन टेक ने अमेरिकी नियामक के समक्ष स्वीकृति के लिए आवेदन दाखिल किया था। 2020 के अंत तक, मोडर्ना को उम्मीद है कि उसके पास उपलब्ध एमआरएनए-1273 वैक्सीन का करीब 20 मिलियन डोज उपलब्ध होगा। इसके साथ ही यह वैश्विक स्तर तक 2020 तक 500 मिलियन से लेकर एक अरब डोज को तैयार करने की दिशा में बढ़ रहा है।

मोडर्ना ने यूएस नेशनल इंटिस्यूट ऑफ हेल्थ के साथ समझौता किया है और इस सप्ताहांत इसके अंतिम बैच का परिणाम आया, जिससे पता चला की यह वैक्सीन 94 प्रतिशत तक प्रभावी है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous article‘Dial 100’ मनोज बाजपेयी के साथ लगी ये बड़ी थ्रिलर ड्रामा फिल्म, ये कलाकार भी आएंगे नज़र
Next articlePuja path: जाप की माला में क्यों होते हैं 108 मनके, जानिए इनका महत्व
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here