खनिज क्षेत्र देश का आधार : चौधरी बीरेंद्र

0

केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने मंगलवार को कहा कि खान व खनिज क्षेत्र देश का आधार है तथा आर्थिक प्रगति को गति देता है। उत्पादन से पहले और उत्पादन के बाद के कार्यो से यह देश में रोजगार सृजकों में से एक है। एनएमडीसी द्वारा आयोजित ‘खनिज तथा धातुओं पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन ‘परि²श्य-2030’ के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, “यह क्षेत्र वैश्विक वातावरण में प्रगति की बहुत बड़ी संभावनाएं पैदा करता है तथा वह नीति निर्माण के लिए सम्मेलन से प्राप्त होने वाली संस्तुतियों की प्रतीक्षा करेंगे।”

उन्होंने यह भी कहा, “यह सम्मेलन समयानुकूल है तथा भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय इस्पात नीति-2030 में निर्धारित किए गए विजन के अनुरूप है। इस सम्मेलन से संपूर्ण क्षेत्र में सूचना तथा विशेषज्ञता के आदान-प्रदान में सहायता मिलेगी।”

दो दिन के इस सम्मेलन में 16 देशों के 500 से अधिक प्रतिभागी शामिल हो रहे हैं तथा 30 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय वक्ता इसको संबोधित कर रहे हैं। सम्मेलन घरेलू तथा अंतर्राष्ट्रीय, दोनों ही क्षेत्रों में मौजूदा तथा संभावित धातु उत्पादकों एवं खनिकों को परस्पर लाभकारी संबंध बनाने के लिए विचार-विमर्श, योजना बनाने का एक महत्वपूर्ण मंच प्रदान करेगा।

इस अवसर पर एनएमडीसी के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक एन. बैजेंद्र कुमार ने कहा, “खनिजों तथा धातुओं पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन स्थानीय तथा अंतर्राष्ट्रीय धातु उत्पादकों तथा खनिकों के लिए एक महत्वपूर्ण मंच है। एनएमडीसी ने इस सम्मेलन की परिकल्पना इस उद्देश्य के साथ की है कि उद्योग में एक महत्वपूर्ण भागीदार होने के कारण वह अपने मौजूदा ज्ञान का आदान-प्रदान कर सके। इस सम्मेलन से भारत को अंतर्राष्ट्रीय खनन तथा धातुओं के परिवेश में एक महत्वपूर्ण स्थान दिलाने के अतिरिक्त विभिन्न देशों के साथ नई साझेदारी तथा व्यापार संबंध बनाने में भी मदद मिलेगी।”

बैजेंद्र कुमार ने उद्घाटन सत्र में कहा, “इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन से न केवल खनिज तथा धातु क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा, बल्कि इससे भारत की राष्ट्रीय इस्पात नीति-2030 में निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने में सभी स्टेक होल्डर्स को संगठित किया जा सकेगा। इस क्षेत्र में असीम संभावनाएं हैं, जिनका पूर्ण रूप से दोहन अभी तक नहीं किया जा सका है।”

दो दिनों के इस सम्मेलन में समापन समारोह के मुख्य अतिथि इस्पात राज्यमंत्री विष्णुदेव साय होंगे। सत्र को सज्जन जिंदल, डॉ. एडविन वस्सन, नवीन जिंदल, जतिंदर मेहरा और कई भारतीय व अंतर्राष्ट्रीय सीईओ और कंट्री लीडर संबोधित करेंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleये थी दुनिया की सबसे बड़ी नरभक्षी महिला, मारकर खाती थी लोगों का दिल और अंगों का बनाती थी आचार, जानकर कांप जाएगी रूह
Next articleअरुण शौरी व प्रशांत भूषण से सीबीआई निदेशक की मुलाकात पर सरकार ‘खफा’, राफेल मामले को लेकर हुई थी मीटिंग
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here