जब अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो बोले- ‘मोदी है तो मुमकिन है’

0
119

जयपुर। हाल ही में हुए देश में लोकसभा के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने एक नारा दिया था और नारे में कहा था कि मोदी है तो मुमकिन है और अब यह नारा भारतीय जनता पार्टी के नेता ही नहीं बल्कि विदेशी नेता भी लगाने लगे हैं अमेरिकी विदेश मंत्री पोप्पियों  ने भारतीय जनता पार्टी के चुनावी नारे मोदी है तो मुमकिन है का जिक्र करते हुए भारत और अमेरिका के संबंधों को आगे बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा है कि दोनों देशों को अपने संबंध अच्छे करते हुए व्यापार के लिए आगे संबंध अच्छे करने चाहिए.

आपको बता दे कि बुधवार को अमेरिका भारत बिजनेस काउंसिल की इंडिया आईडिया समिट में उन्होंने कहा कि जैसे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने हालिया कैंपेन में कहा था कि मोदी है तो मुमकिन है मैं इस और देख रहा हूं कि हमारे लोगों के बीच क्या संभव हो सकता है.

आपको बता दें कि पोप्पियों हिंद प्रशांत क्षेत्र की अपनी आगामी यात्रा की शुरुआत से में सबसे पहले भारत पहुंचे और यहां पर दौरा किया इसके अलावा अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता मौर्य  के मुताबिक पॉम्पियो किए यात्रा 24 जून से 30 जून के बीच में होगी वही आप बता दें कि इसी दौरान वे श्रीलंका एवं जापान की भी यात्रा करेंगे और इसके अलावा उनके दक्षिण कोरिया जाने की भी संभावना जताई जा रही है.

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुक्त और खुले हिंद प्रशांत क्षेत्र के साझा लक्ष्य को लेकर रणनीति में भारत की एक अहम भूमिका बताई जा रही है आपको बता दें कि क्षेत्र में चीन अपना वर्चस्व बढ़ा रहा है ऐसे में अमेरिका भारत के साथ और इन आसपास के क्षेत्र में अपनी मौजूदगी और अपने विस्तार की लगातार कोशिशों में लगा हुआ है.

ऐसे में अमेरिका की विदेश मंत्री का इस यात्रा का मकसद यही है कि मुक्त हिंदू प्रशांत कि साझा लक्ष्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रमुख देशों के साथ अमेरिका अपने संबंध अच्छे कर सके और चीन के फैलते वर्चस्व को वह रोक सके.

इसके अलावा आपको बता दी कि अमेरिकी विदेश मंत्री भारत दौरे के बाद 28- 29 जून को जापान के ओसाका में जी-20 की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी मुलाकात करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here