राज्यसभा के सदस्य ‘पीएम केयर्स’ में सांसद निधि से योगदान दें : उपराष्ट्रपति

0

उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने राज्यसभा के सभी सांसदों से ‘पीएम केयर्स’ योजना में अपने सांसद निधि से कम से कम 1 करोड़ रुपये योगदान देने की अपील की है। इस संदर्भ में राज्यसभा के सभापति ने सांसदों को लिखे अपने पत्र मे कहा, “कोविड 19 संक्रमण से निपटने के लिए सरकार, निजी क्षेत्र और नागरिकों की तरफ से अनेक कदम उठाए जा रहे हैं, जिसके लिए बड़े पैमाने पर वित्तीय, मानव संसाधनों और साजो-सामान की आवश्यकता होगी। भारत सरकार अलग-अलग तरीकों से जरूरी वित्तीय संसाधन एकत्र कर रही है, जिससे केंद्र, राज्य और जिला स्तर तक पर्याप्त संसाधनों को उपलब्ध कराया जा सके।”

उपराष्ट्रपति ने लोगों से अपील की है कि इस दिशा में सांसदों की तत्परता जरूरी है, जिससे संक्रमण अभियान में महत्वपूर्ण योगदान किया जा सके।

उपराष्ट्रपति ने आग्रह किया है कि वर्ष 2020-21 के लिए अपनी सांसद निधि में से कम से कम 1 करोड़ रुपये की राशि केंद्र सरकार द्वारा नियत कोष में देने के लिए अपनी स्वीकृति दें।

उन्होंने कहा, “इसके लिए केंद्रीय सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय द्वारा सांसद स्थानीय क्षेत्र विकास निधि से संबद्ध नियमों में, एक बार के लिए आवश्यक प्रावधान किए गए हैं।”

उपराष्ट्रपति ने लोगों से भी अपील की कि वे आपदा प्रबंधन क्षमता को और सुढृढ़ करने के लिए ‘पीएम केयर्स’ फंड में उदारतापूर्वक योगदान दें।

उपराष्ट्रपति ने नागरिकों, समाज सेवी संस्थाओं और धार्मिक संगठनों के प्रयासों की सराहना करते हुए अपील की है कि वे स्थानीय स्तर पर ही दुर्बल वर्गों और जरूरतमंदों के लिए भोजन, आश्रय की व्यवस्था करने में भी अपना सहयोग करें।

गौरतलब है कि इससे पहले उपराष्ट्रपति ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, दोनों सदनों के महासचिवों के साथ इस विषय पर बैठक की थी। इस संदर्भ में राज्य सभा के उपसभापति ने राज्यसभा में विभिन्न दलों के नेताओं से सांसद निधि के विषय में चर्चा भी की थी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleई कॉसर्म साइट्स कोरोना से लड़ने में ऐसे कर रही हैं लोगो की मदद
Next articleCoronavirus: लॉकडाउन से सड़कों पर फंसे हजारों ट्रक!…अब सप्लाई चेन टूटने की आशंका
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here