लुटियन की दिल्ली में मायावती के पास सरकारी, आवासीय, वाणिज्यिक संपत्तियां

0
58

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती की लुटियन की दिल्ली में करोड़ों रुपये की संपत्तियां हैं। मायावती के पास राष्ट्रीय राजधानी में एक आधिकारिक निवास-सह-कार्यालय भी है।

हाल में सर्वोच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा है कि बसपा सुप्रीमो मायावती को खुद की, उनके गुरु कांशीराम व हाथियों की लखनऊ व नोएडा में प्रतिमाओं पर खर्च हुई धन राशि को सरकारी खजाने में जमा कराना चाहिए। गौरतलब है कि हाथी, बहुजन समाज पार्टी का चुनाव चिन्ह है।

मायावती, उत्तर प्रदेश की चार बार मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। उन्होंने जमीनी स्तर से उठकर राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धि हासिल की है और वह देश के अमीर राजनेताओं में शुमार हैं।

मायावती द्वारा 2012 के राज्यसभा चुनावों के समय नामांकन पत्र दाखिल करने के समय की गई घोषणा के अनुसार, उनकी लखनऊ व दिल्ली में दोनों जगह आवासीय व वाणिज्यिक संपत्तियां है, बैंक में नकदी व आभूषण हैं, यह सब 111 करोड़ रुपये से ज्यादा की हैं। मायावती ने 2017 में राज्य सभा से इस्तीफा दे दिया।

साल 2010 में बसपा सुप्रीमो मायावती जब उत्तर प्रदेश विधान परिषद के लिए निर्वाचित हुई थी तो उनकी कुल संपत्तियों की कीमत करीब 88 करोड़ रुपये व 2007 में 52.27 करोड़ रुपये आंकी गई थी।

मायावती की ज्यादातर संपत्ति रियल एस्टेट में है और उनकी दिल्ली व लखनऊ में पॉश इलाके में आवासीय इमारतें हैं।

दिल्ली में बंगला नंबर-12,14 व 16 को मिलाकर सुपर बंगला बनाया गया है और इसका इस्तेमाल निवास-सह-कार्यालय के रूप में होता है। मायावती यहां अपनी प्रेस कांफ्रेंस व पार्टी की दूसरी महत्वपूर्ण बैठकें करती हैं। इस मिलाकर बनाए गए सुपर बंगले में से एक ईकाई को बहुजन प्रेरणा ट्रस्ट के नाम से आवंटित किया गया है।

नियमानुसार नई दिल्ली के लुटियन जोन में सरकारी बंगलों में किसी तरह के परिवर्तन की इजाजत नहीं है, लेकिन नियमों का उल्लंघन किया गया है।

मायावती के पास उनके नाम से 4, गुरुद्वारा रकाब गंज रोड पर एक सरकारी बंगला है, यह इन तीनों से अलग है।

इस तरह के बंगले मंत्रियों व सचिवों के लिए बने है, जिसका भूखंड 8,250 वर्गफीट है और आगे व पीछे लॉन हैं। इनका प्लिन्थ एरिया 1,970 वर्गफीट है और इसमें आठ शयनकक्ष, चार सर्वेट क्वार्टर व दो गैरेज हैं।

मायावती की दिल्ली की अचल संपत्तियों में दिल्ली के कनॉट प्लेस (बी-34 भूतल व बी-34 प्रथम तल, इनका क्षेत्र कमश: 3628.02 व 4535.02 वर्गफीट है) में दो वाणिज्यिक इमारतें शामिल हैं। इन वाणिज्यिक संपत्तियों का 2012 में अनुमानित बाजार मूल्य क्रमश: 9.39 करोड़ रुपये व 9.45 करोड़ रुपये है। इसकी जानकारी 2012 के राज्यसभा चुनावों के दौरान दाखिल किए गए नामांकन पत्र में है।

साल 2009 में मायावती ने नई दिल्ली के डिप्लोमेटिक एनक्लेव के 23, 24 सरदार पटेल मार्ग पर एक संपत्ति खरीदी। इसका कुल क्षेत्रफल 43,000 वर्गफीट है। 2012 में इसकी कीमत 61 करोड़ रुपये आंकी गई थी।

लखनऊ में मायावती के पास 9, माल एवेन्यू पर एक आवासीय इमारत है, जिसका क्षेत्रफल 71,282.96 वर्गफीट है, जिसका निर्माण क्षेत्र 53,767.29 वर्ग फीट है। इसे 3 नवंबर 2010 में खरीदा गया और इसकी अनुमानित कीमत 2012 में 16 करोड़ रुपये थी।

सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि मायावती को लखनऊ व नोएडा में हाथियों की मूर्तियां लगाने पर खर्च की गई रकम को सरकारी खजाने में जमा कराना चाहिए।

शीर्ष अदालत की टिप्पणी को लेकर मायावती के प्रतिद्वंद्वी उन पर हमला कर रहे हैं। मामले की अगली सुनवाई अप्रैल में होगी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleIND-AUS: 24 फरवरी को पहला T-20, एक खिलाड़ी का डेब्यू और 3 खिलाड़ियों की वापसी संभव, देखें
Next articleनवंबर में जन्मे बच्चे दुनिया में होते हैं सबसे भाग्यशाली
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here