कमजोर वैश्विक संकेतों से टूटा बाजार, Sensex 39,000 के नीचे बंद

0

कमजोर वैश्विक संकेतों और भूराजनीतिक तनाव के चलते घरेलू शेयर बाजार में गुरुवार को कारोबारी मंद रहे, जिससे सेंसेक्स गुरुवार को 323 अंक टूटकर 39,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे बंद हुआ। निफ्टी बीते सत्र से 88 अंकों की गिरावट के साथ 11,516 पर ठहरा। कमजोर वैश्विक संकेतों से घरेलू शेयर बाजार में कारोबारी रुझान मंद रहा, जबकि अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व बुधवार को कहा कि वह 2023 तक ब्याज दरें शून्य के करीब रख सकता है।

सेंसेक्स में पिछले सत्र से 323 अंकों यानी 0.82 फीसदी की गिरावट के साथ 38,979.85 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी बीते सत्र से 88.45 अंकों यानी 0.76 फीसदी की कमजोरी के साथ 11,516.10 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 182.21 अंकों की गिरावट के साथ 39,120.64 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स 38,926.34 तक लुढ़का, जबकि सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 39,234.81 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 65.15 अंकों की गिरावट के साथ 11,539.40 पर खुला और 11,498.50 तक फिसला, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी का उपरी स्तर 11,587.20 रहा।

बीएसई मिडकैप सूचकांक पिछले सत्र से 36.67 अंकों यानी 0.24 फीसदी की कमाजोरी के साथ 15,009.13 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 81.35 अंकों यानी 0.53 फीसदी की गिरावट के साथ 15,349.55 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से सिर्फ पांच शेयरों, हरे निशान के साथ बंद हुए जिनमें से एक सपाट रहा, जबकि 25 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए।

बढ़त के साथ बंद होने वाले शेयरों में एचसीएल टेक (2.36 फीसदी), इन्फोसिस (0.96 फीसदी), मारुति (0.44 फीसदी) और टाइटन (0.01 फीसदी) शामिल हैं, जबकि ओएनजीसी का शेयर सपाट बंद हुआ।

सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में बजाज फिनसर्व (2.23 फीसदी), पावरग्रिड (2.07 फीसदी), एलएंडटी (1.70 फीसदी), टीसीएस (1.70 फीसदी) और आईसीआईसीआई (1.56 फीसदी) शामिल हैं।

बीएसई के 19 सेक्टरों मंे से सिर्फ तीन सेक्टरों का सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुआ, बांकी 16 सेक्टरों के सूचकांकों में गिरावट दर्ज की गई।

बीएसई के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच सेक्टरों में रियल्टी (1.87 फीसदी), धातु (1.27 फीसदी), बैंक इंडेक्स (1.27 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (1.17 फीसदी) और वित्त (1.17 फीसदी) शामिल हैं, जबकि तेजी वाले शेयरों में हेल्थकेयर (0.46 फीसदी), आईटी (0.23 फीसदी) और टेक (0.07 फीसदी) शामिल हैं।

बीएसई पर कुल 3,139 शेयरों में कारोबार हुआ, जिनमें से 1,227 शेयरों में तेजी रही जबकि 1,728 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। सत्र के आखिर में 184 शेयर बिना किसी बदलाव के बंद हुए।

बाजार के जानकार बताते हैं कि कोरोना के गहराते प्रकोप और भूराजनीति तनाव के कारण घरेलू बाजार में कारोबारी रुझान कमजोर रहा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleIPL 2020: CSK की स्पिन में विविधता है, UAE की परिस्थितियों में बढ़त होगी, ब्रेट ली
Next articleलॉन्च से पहले Realme Narzo 20 सीरीज़ के सभी फीचर्स लीक हुए, जानें पूरा विवरण
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here