विजयाराजे सिंधिया की जन्मशताब्दी पर मैराथन दौड़

0
129

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) देश भर में सिंधिया राजघराने की विजयाराजे सिंधिया ‘राजमाता’ की जन्मशताब्दी को मना रही है। शुक्रवार को पूरे राज्य में भाजपा ने नारी शक्ति दिवस के तौर पर मनाया। ग्वालियर में जहां मैराथन दौड़ शुरू हुई, वहीं विभिन्न स्थानों पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। ग्वालियर के क्षत्री पार्क से दिल्ली तक के लिए 400 किमी कि महिला सशक्तीकरण दौड़ को हरी झंडी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिखाकर रवाना किया। भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया राहटकर के नेतृत्व में यह महिला रिले मैराथन दौड़ पांच राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली से होते हुए 16 अक्टूबर को दिल्ली में समाप्त होगी। दिल्ली के तालकटोरा इंडोर स्टेडियम में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की उपस्थिति में इसका समापन होगा।

भाजपा के अनुसार, इस मैराथन में शुरू से लेकर अंत तक 375 किमी के बीच 100 महिलाएं दौड़ेंगी। उसके साथ ही कई नामचीन व्यक्ति, सेलिब्रिटी भी बीच में इससे जुड़ेंगे और मोदी सरकार की उन योजनाओं को लोगों से साझा करेंगे, जिससे महिलाओं का सशक्तीकरण हुआ है।

भाजपा द्वारा इस मौके पर विभिन्न स्थानों पर आयोजित कमल शक्ति संवाद कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती एवं प्रदेश शासन की मंत्री ललिता यादव सागर, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, मंत्री अर्चना चिटनीस एवं महापौर मालिनी गौड़ इंदौर, उत्तरप्रदेश की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी एवं मंत्री कुसुम मेहदेले रीवा, केंद्रीय मंत्री निरंजना ज्योति एवं सांसद ज्योति धुर्वे छिदवाड़ा, सरोज पांडे एवं प्रदेश मंत्री कृष्णा गौर उज्जैन तथा सांसद मीनाक्षी लेखी व महापौर स्वाती गोड़बोले जबलपुर में उपस्थित रहीं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleबिहार में ट्रेन की चपेट में आने से 5 लोगों की मौत
Next articleमुलर के सवालों के जवाब तैयार कर रहे हैं ट्रंप के वकील
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here