सवर्णों को मांझी की चेतावनी- 15% वाला देश जला सकता है तो 85% वाला हाथ में दही लेकर नहीं बैठा

0
133

जयपुर। एससी एसटी एक्ट को लेकर राजनीती रुकने का नाम ही नही ले रही है, इस एक्ट के चलते सवर्ण और दलित नेता आमने सामने नजर आ रहे है। अब इस एससी एसटी एक्ट की राजनीती में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी भी कूद पड़े है। मांझी ने शुक्रवार को कहा की अगर 15 प्रतिशत वाला देश जला सकता है तो 85 प्रतिशत वाला हाथ में दही लेकर नहीं बैठा है। मांझी ने सवर्ण समाज द्वारा एससी एसटी एक्ट के लिए सवर्ण समाज के भारत बंद का विरोध करा, उन्होंने कहा की एससी-एसटी 1989 एक्ट का मामला है और उसी को बहाल किया गया है। उसमें सुप्रीम कोर्ट ने थोड़ा संशोधन किया था लेकिन उसको संसद ने निरस्त करके 1989 के एक्ट को ही बहाल किया गया है। इसमें जान बूझकर अत्याचार करने वाले लोग हंगामा कर रहे हैं। अब एससी में जागरुकता आया तो वे जानते हैं कि जो अपराधी होंगे वे बचेंगे नहीं।

Image result for manjhi opposes the closure of india by the upper caste

इसके अलावा इस भारत बंद में एक अहम भूमिका निभा रहे देवकी नंदन ठाकुर पर भी मांझी ने जम कर हमला बोला, उन्होंने देवकी नंदन ठाकुर को ढ़ोगी बाबा बता दिया और कहा कि इस तरह के लोगों पर देशद्रोह का मामला दर्ज होना चाहिए।

Image result for manjhi opposes the closure of india by the upper caste

इसके अलावा उन्होंने बिहार की सरकार भी हमला बोला उन्होंने कहा की सरकार को सृजन घोटाले की जांच  करनी चाहिए और प्रदेश के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को इस्तीफा ददे देना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की देश के गरीब सवर्ण को आरक्षण मिलना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here