वास्तुविज्ञान: गार्डन में वास्तु अनुसार लगाएं पौधे, होगा सकारात्मक ऊर्जा का संचार

0

वास्तुशास्त्र हर व्यक्ति के जीवन में विशेष महत्व रखता हैं, वास्तु विज्ञान में हर स्थान के लिए नियम बताए गए हैं अगर इन नियमों के मुताबिक निर्माण करवाया जाए, तो घर में सुख समृद्धि बनी रहती हैं आज के समय में अधिकतर लोग वास्तु को ध्यान में रखकर ही निर्माण कार्य करवा रहे हैं घर का निर्माण कराते समय दरवाजे, खिड़की शयन कक्ष सभी को बनवाते समय वास्तु का ध्यान रखते हैं मगर जब बात गार्डन बनाने की आती हैं तो वास्तुविज्ञान को नजरअंदाज कर दिया जाता हैं अगर व्यक्ति अपने घर के गार्डन में वास्तु अनुसार पौधे लगाता हैं तो न केवल घर की शोभा बढ़ती हैं बल्कि इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का भी संचार होता हैं, तो आज हम आपको गार्डन से जुड़े वास्तुटिप्स बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

गार्डन बनाने के लिए घर की उत्तर या पूर्व की दिशा को उचित माना गया हैं इसके पीछे वैज्ञानिक तथ्य भी हैं पूर्व दिशा में गार्डन लगाने से पौधों पर सुबह की सूर्य की हल्की किरणें पड़ती हैं और दोपहर का समय आते ही सूर्य पूर्व दिशा से घूमकर पीछे हो जाता हैं जिससे आवश्यकतानुसार धूप पौधों को मिल जाती हैं और तेज धूप के कारण पौधे झुलसते भी नहीं हैं। कुद लोग अपने गार्डन की सुदरता को बढ़ाने के लिए वॉटर फाउंटेन भी लगाते हैं मगर अधिकतर लोग इसे गार्डन के बीच में लगाते हैं इसे हमेशा ही पूर्व और उत्तर दिशा में लगाना चाहिए, क्योंकि वास्तु में पूर्व और उत्तर दिशा को देवताओं और जल की दिशा माना गया हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here