मध्य प्रदेश: नरसिंहपुर के 7 गांवों में उजियारा, कांग्रेस ने शिवराज पर दागे कई सवाल, जानिए इनके बारे में !

0
124

मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले के दूरस्थ सात जंगली गावों तक आजादी के 70 बाद बिजली पहुंची है। सरकार की ओर से आधिकारिक बयान जारी कर इसे बड़ी उपलब्धि करार दिया गया है। वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस ने सरकार से पूछा है कि आखिर 14 साल से शिवराज सिंह चौहान की सरकार क्या कर रही थी। आधिकरिक तौर पर जारी विज्ञप्ति में शुक्रवार को बताया गया कि नरसिंहपुर जिले के आठ दुर्गम वन ग्रामों में पिछले 70 सालों से बिजली की रोशनी का इंतजार तब खत्म हुआ, जब इन गावों में बिजली का बल्ब जलाकर दिखाया गया।

बताया गया है कि जिले के भिलमाढ़ाना (वन एवं राजस्व), कोटरी, छींदखेड़ा, हींगपानी, टुईयापानी, सांवरी तथा भौंभरी गांवों के लोगों ने इससे पहले कभी बिजली की रोशनी नहीं देखी थी। घने जंगलों एवं दुर्गम पहाड़ों के कारण गांवों तक बिजली पहुंचाना बेहद कठिन था, लेकिन ऊर्जा विभाग ने इसे कर दिखाया है। अभी तक यहां के लोगों का आसरा लालटेन होती थी।

इन गांवों के विद्युतीकरण में सबसे बड़ी चुनौती सामग्री के परिवहन की थी। घने जंगलों में बसे इन गांवों तक पहुंचने वाले मार्ग परिवहन के लायक नहीं थे, जिससे बिजली के खंभों, ट्रांसफर्मर, केबल व अन्य सामग्री भेजना कठिन था, लेकिन कंपनी के अधिकारियों-कर्मचारियों की लगन से यह कार्य पूरा हो गया।

बिजली पहुंचाने के इस अभियान में आठ गांवों में आठ ट्रांसफार्मर, 11 केवी की 45 किलोमीटर की केबल, 7.5 किलोमीटर की एल़ टी़ लाइन का उपयोग किया गया। सौभाग्य योजना में 353 हितग्राहियों को निशुल्क नवीन कनेक्शन प्रदान किए गए। इस प्रकार लगभग 2600 ग्रामवासी लाभान्वित हुए।

वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सरकार द्वारा सात गांवों में बिजली पहुंचाने पर अपनी पीठ थपथपाने पर सवाल किया है कि आखिर उन्हें इन गांवों तक बिजली पहुंचाने में 14 साल कैसे लग गए। इसका भी तो हिसाब दें।

उन्होंने आगे कहा, “70 साल और 2003 को ढाल बनाकर कब तक भाजपा सरकार अपने चेहरे पर लगी असफलता की कालिख छुपाती रहेगी। मुख्यमंत्री दावा करते हैं कि मध्यप्रदेश की विकास दर बढ़ गई, कृषि विकास दर बढ़ गई। ग्रामीण क्षेत्र, सड़कों से जुड़ गए। अब अगर सात गांवों में आज बिजली पहुंची है तो इसका जिम्मेदार कौन था। भाजपा सरकार भी निर्लज्ज है अपनी असफलताओं पर भी उसे गर्व होता है।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here