मध्य प्रदेश : मतदान में दिखे उत्साह के रंग

0
79

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के दौरान उत्साह के रंग नजर आए। बुजुगरें पर जहां उम्र का असर नहीं दिखा, वहीं वैवाहिक जीवन में प्रवेश करने वालों ने भी मतदान केंद्रों पर पहुंचकर अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। इतना ही नहीं विदेशों से भी लोग मतदान करने आए।

आगर-मालवा जिले में मतदान में बुजुर्गो ने मुखिया की अहम् भूमिका निभाई। वयोवृद्घ 99 वर्षीय हीरोबाई गवली और उनके पति नंदराम गवली ने आगर-मालवा के मतदान केन्द्र-167 पर अपनी चार पीढ़ी के साथ लोकतंत्र के महात्योहार में हिस्सा लिया। उनके साथ चार पुत्र, दो पोते और तीन पड़पोतों ने मतदान किया। चाचाखेड़ी में 107 वर्ष की मैनाबाई का पोते के साथ मतदान करने पर पुष्पहार से स्वागत किया गया। ग्राम लाड़वन में 106 वर्षीय अमर सिह गुर्जर और बरोड रोड आदर्श मतदान केन्द्र पर 85 वर्षीय शोभाराम गवली ने पूरे जोश से मतदान किया।

इसी तरह आगर-मालवा के ही महेन्द्र शर्मा और शोभा शर्मा ने चार धाम की यात्रा पर रवाना होने से पहले मतदान किया।

उज्जैन में भी मतदान के प्रति मतदाताओं में विशेष उत्साह देखा गया। देश-विदेश से मतदाता अपने मतदान केन्द्र पर पहुंचे और उन्होंने मताधिकार का उपयोग किया। कुमारी शुभी भारल अमेरिका के लॉस एजेंलिस से वोट देने भारत आईं। तमिलनाडु में नौकरी कर रहे किंशुक परमार वोट डालने उज्जैन दक्षिण के मतदान केन्द्र पहुंचे।

नीमच जिले में सुबह से ही लोकसभा चुनाव में मतदान के लिए महिलाओं में काफी उत्साह देखा गया। जिले के घसूंडीबामनी में 105 साल की कावेरी बाई और चेनपुरा में कंकुबाई ने मतदान किया। दोनों अपने पोतों के साथ मतदान केन्द्र पहुंचीं। अमावली महल मतदान केन्द्र पर 90 वर्षीय पन्नालाल भी अपने भतीजे की मदद से व्हील-चेयर पर मतदान केन्द्र पहुंचे।

मनासा क्षेत्र के गांव भमेसर में नवविवाहित भूपेन्द्र पाटीदार ने दुल्हन के साथ मतदान केंद्र जाकर मताधिकार का उपयोग किया। नवलपुरा के मतदान केंद्र पर 107 वर्षीय भागीबाई ने व्हील-चेयर पर मतदान केंद्र जाकर मतदान किया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleवाई—फाई से इंटरनेट चलाने वाले यूजर्स पढ़े ये खबर
Next articleWorld Cup 2019: टूर्नामेंट के आगाज से पहले इस दिग्गज ने कोहली को दी विराट सलाह
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here