मध्य प्रदेश: सीएम शिवराज ने कहा—में 500 करोड़ की लागत से तालाब बनेंगे

0
245

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भू-जल स्तर निरंतर गिर रहा है। इसे रोकने के लिए प्रदेश में जन-सहयोग से जल-संरक्षण और संवर्धन का महाभियान चलाया जाएगा। पुराने तालाबों और नदियों का गहरीकरण किया जाएगा। साथ ही इस वर्ष 500 करोड़ रुपये से नए तालाबों का निर्माण किया जाएगा। सीहोर जिले के ईंटखेड़ी छाप में सोमवार को आायेजित जल-संसद को संबोधित करते हुए चौहान ने कहा कि इस वर्ष 15 जुलाई से पौधरोपण अभियान भी शुरू होगा। इस अभियान से संपूर्ण समाज को जुड़ा चाहिए। उन्होंने कोलांस नदी के गहरीकरण के लिए श्रमदान का शुभारंभ भी किया। उन्होंने स्वयं श्रमदान कर लोगों को श्रमदान के लिए प्रेरित भी किया।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, “मनुष्य द्वारा औद्योगिकीकरण और भौतिकता की चाह में प्राकृतिक संसाधनों का अंधाधुंध दोहन किया गया है। इससे कई प्राकृतिक आपदाएं उत्पन्न हुई हैं। वृक्षों की अंधाधुंध कटाई से वर्षा कम और अनियमित होने लगी है। पर्यावरण बिगड़ रहा है, नदियां सूख रही हैं और सतही जल लगातार घट रहा है। धरती पर सूखे का संकट पैदा हो रहा है। धरती की सतह का तापमान लगातार बढ़ रहा है, जो वर्ष 2050 तक दो डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाएगा। इससे ग्लेशियर पिघलेंगे, समुद्र का जल-स्तर बढ़ेगा और बाढ़ जैसी समस्याएं पैदा होंगी।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि नदियां जीवन का आधार हैं। मानव सभ्यता नदियों के किनारे ही विकसित हुई हैं। पर्यावरण संरक्षण और प्राकृतिक संसाधनों को बचाना हमारा लक्ष्य है। आगामी 15 जुलाई से 30 अगस्त तक महावृक्षारोपण अभियान शुरू होगा। वर्षा जल को रोकने के लिए चेक डेम, बोरी बंधान और तालाब निर्माण का कार्य किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि गांव का पानी गांव में ही रोकने के उपाय किए जाएंगे। इसमें स्वयंसेवी संस्थाएं एवं सभी लोग सहयोग करें। मुख्यमंत्री ने जल-संरक्षण के लिए जन-अभियान परिषद द्वारा सभी 313 विकासखंडों में नदियों के गहरीकरण के लिए शुरू किए गए श्रमदान की प्रशंसा की।

जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष डॉ़ प्रदीप पांडे ने बताया कि आज से नदी गहरीकरण के जन-अभियान की शुरुआत हो रही है, जो आगामी दो माह तक प्रदेश के 313 विकासखंडों में चलेगा। गौ-संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष स्वामी अखिलेश्वरानंद ने कहा कि भारतीय संस्कृति बहुत उदार है। इसमें सभी जीव-जंतुओं, जड़-चेतन को भी चैतन्य माना गया है। भारत एक जीवंत चेतना है। इसमें प्रकृति को पूरा सम्मान दिया गया है।

उन्होंने कहा कि बिना जल के जीवन संभव नहीं है, इसलिए जड़-जंतु, जल को सुरक्षित रखें। विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि कोलांस नदी से भोपाल का बड़ा तालाब भरता है। उन्होंने नदी गहरीकरण के कार्य के लिए परिषद की सराहना की। मुख्यमंत्री ने परिषद द्वारा आयोजित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleजम्मू कश्मीर में आतंकियों ने 3 नागरिकों की हत्या की
Next articleकठुआ दुष्कर्म ‘छोटा मुद्दा’, बढ़ा-चढ़ा कर पेश नहीं करें : कविंद्र गुप्ता
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here