मध्य प्रदेश : शिवपुरी के जैन मंदिर से 22 मूर्तियां चोरी

0
240

मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के जैन मंदिर से 22 प्रतिमाएं चोरी हो गईं, ये मूर्तियां अष्टधातु की थीं। वर्षो पुरानी इन मूर्तियों की अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत करोड़ों रुपये है। पुलिस के अनुसार, खनियांधाना थाना क्षेत्र के अछरोनी कस्बे में स्थित प्राचीन जैन मंदिर से चोर बुधवार-गुरुवार की दरम्यानी रात को 22 जैन र्तीथकरों की प्रतिमाएं चुरा ले गए। चोरी गई सभी प्रतिमाएं अष्टधातु की बताई गई हैं, जो वर्षो पुरानी हैं।

चोरी की वारदात का खुलासा उस समय हुआ, जब गुरुवार की सुबह जैन समाज के लोग मंदिर में दर्शन करने गए, तब मंदिर से प्रतिमाएं गायब थीं।

जैन प्रतिमाओं के चोरी जाने के बाद जिला मुख्यालय से पुलिस आीक्षक राजेश हिगणकर सहित अन्य पुलिस अािकारी मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल शुरू की। जैन मंदिर में दर्शन करने आए लोगों ने पुलिस को बताया कि सुबह जब वह मंदिर में दर्शन के लिए आए तो प्रतिमाएं गायब थीं, जबकि बुावार की रात को रोजाना की भांति मंदिर पुजारी ने बंद किया था और गुरुवार को पर्यूषण पर्व शुरू होने वाला था, इसलिए एक दिन पहले यहां पर सफाई भी की गई थी।

पिछोर के अनुविभागीय अधिकारी, पुलिस आर.पी. मिश्रा (एसडीओ,पी) ने संवाददाताओं को बताया कि जैन मंदिर से 22 प्रतिमाएं चोरी गई हैं। यह मंदिर की ऊपरी मंजिल पर कांच के बड़े शोकेस में रखी थी। दूर से ही श्रद्धालु इनके दर्शन करते थे। पुलिस मौके पर पहुंचकर पूरी वारदात की बारीकी से जांच कर रही है।

चोरों ने इससे पहले खनियांधाना में ही राम जानकी मंदिर से सोने का कलश भी चुराया था, जिसका पुलिस अभी तक कोई सुराग नहीं लगा पाई हैं। इस सोने की कलश की कीमत भी 15 करोड़ से ज्यादा बताई गई है, जिसका पुलिस सुराग नहीं लगा पाई है।

जिले के खनियाधाना में बड़ी संख्या में प्राचीन जैन मंदिर व प्रतिमाएं हैं, जो हमेशा चोरों के निशाने पर रहे हैं। लगभग 20 साल पहले भी प्रसिद्ध एवं प्राचीन जैन मंदिर गोलाकोट मंदिर से भी जैन प्रतिमाएं चोरी गई थीं।

पुलिस अधीक्षक राजेश हिंगणकर ने संवाददाताओं से कहा कि चोरी की घटना की पुलिस बारीकी से जांच कर रही है और आरोपियों की तलाश जारी है।

न्यूज स्त्रेात आईएएनएस


SHARE
Previous articleकोहली का विराट खुलासा जब शतक जड़ने के बाद एलिस्टेयर कुक से पूछा यह सवाल
Next articleयह है मंकी मैन! कारनामे जान रह जाएंगे दंग, एक बार जरूर जाने
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here