लोपेतहुई बर्खास्त, हिएरो स्पेन के नए कोच (राउंडअप)

0
183

फीफा विश्व कप के आगाज से एक दिन पहले बुधवार को स्पेन फुटबाल में अप्रत्याशित हलचल मच गई। जुलेन लोपतेगुई को स्पेन के मुख्य कोच पद से बर्खास्त कर दिया गया और रियल मैड्रिड के पूर्व दिग्गज डिफेंडर फनाडरे हिएरो को इस पद की जिम्मेदारी सौंप दी गई। दो दिन बाद विश्व कप में स्पेन को पहला मैच पुर्तगाल के खिलाफ खेलना है। स्पेन को विश्व कप में ग्रुप-बी में पुर्तगाल, ईरान, मोरक्को के साथ रखा गया है।

समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, स्पेनिश फुटबाल क्लब रियल मैड्रिड ने मंगलवार को लोपतेगुई को उसके मुख्य कोच के रूप में नियुक्त करने की घोषणा की थी। वह फीफा विश्व कप टूनार्मेट के बाद जिनेदिन जिदान के स्थान पर क्लब के कोच पद की जिम्मेदारी संभालने वाले थे।

इसके एक दिन बाद बुधवार को ही लोपतेगुई को स्पेनिश टीम के कोच पद से हटाने की घोषणा कर दी गई। स्पेन फुटबाल महासंघ (आरएफईएफ) ने कहा कि उसे 51 वर्षीय लोपतेगुई के रियल मैड्रिड के साथ हुए करार की जानकारी पहले मिली होती तो स्थिति कुछ और हो सकती थी, लेकिन यह जानकारी छिपाई गई और इस कारण लोपतेगुई को कोच पद से हटाना पड़ा।

इस कदम के बारे में आरएफईएफ के अध्यक्ष लुइस रुबियालेस ने एक बयान में कहा कि उन्होंने लोपेतेगुई में विश्वास खो दिया है। उन्हें रियल मैड्रिड द्वारा उनके फैसले के ऐलान से महज पांच मिनट पहले इसकी जानकारी मिली कि वह क्लब के साथ जा रहे हैं।

लुइस ने कहा, “मैं लोपतेगुई की प्रशंसा करता हूं और उनका सम्मान भी। वह शीर्ष स्तर के कोच हैं और इसी कारण हमारे लिए यह फैसला लेना बहुत मुश्किल था। आप इस प्रकार से विश्व कप की शुरुआत से दो-तीन दिन पहले ऐसी चीजें नहीं कर सकते, लेकिन हमें इस फैसले के लिए मजबूर होना पड़ा।”

लोपतेहुई ने साल 2016 में स्पेन के मुख्य कोच पद का कार्यभार संभाला था। उनके मार्गदर्शन में खेले गए 20 मैचों में से 14 में स्पेन ने जीत हासिल की थी और बाकी छह मैच उसके ड्रॉ रहे थे।

आरएफईएफ ने आनन-फानन में हिएरो को मुख्य कोच की जिम्मेदारी सौंप दी है। टीम के नए कोच हिएरो एक खिलाड़ी के रूप में रियल मैड्रिड से खेल चुके हैं, लेकिन एक कोच के रूप में वह कम अनुभवी हैं। विश्व कप के बाद संभवत: उन्हें इस पद से हटा दिया जाए और किसी अन्य को यह जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है, लेकिन विश्व कप तक हिएरो पर ही स्पेन की उम्मीदों का भार है।

हिएरो एक वर्ष के लिए रियल के सहायक कोच और रियल ओविएडो के मुख्य कोच रहे चुके हैं। स्पेन का मुख्य कोच नियुक्त होने से पहले 50 वर्षीय हिएरो स्पेन के खेल निदेशक के पद पर थे।

इस बीच स्पेन के कप्तान सर्जियो रामोस ने एक ट्वीट कर टीम को एक साथ बने रहने का संदेश दिया है।

उन्होंने कहा, “हम स्पेन हैं, हम अपने बैज, अपने रंग, अपने समर्थकों और अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हैं। हमारी प्रतिबद्धता और जिम्मेदारी कल, आज और कल आपके लिए है। हम एक साथ हैं।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleशाहरुख़ की फिल्म जीरो का ट्रेलर तोड़ सकता हैं कई रिकॉर्ड,ये हैं वजह
Next articleअब संजय ने कहा “संजू” में रणबीर से बेहतर कोई नहीं हो सकता था
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here