लॉकडाउन : अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों को फोन कर पूछा, अब आगे क्या?

0

लॉकडाउन का चौथा चरण 31 मई की आधी रात समाप्त होना है, ऐसे में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार शाम सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को फोन कर लॉकडाउन के भविष्य के बारे में उनकी राय मांगी।

सूत्रों के अनुसार, शाह ने जानना चाहा कि लॉकडाउन बढ़ाया जाए या नहीं। उन्होंने अर्थव्यवस्था को और खोलने को लेकर विभिन्न राज्यों की आशंकाओं और चिंताओं को सुना।

पश्चिम बंगाल जैसे राज्य जब श्रमिक ट्रेनें शुरू हुईं थीं, तब प्रारंभ में बड़े पैमाने पर प्रवासियों को लेकर चिंतत थे। हरियाणा ने गुरुवार को एक बार फिर दिल्ली से लगी सीमा को सील कर दिया।

सूत्रों ने कहा कि शाह ने उनके विचार सुने और इन विचारों से वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अवगत कराएंगे।

प्रत्येक लॉकडाउन की अवधि पूरी होने के बाद आमतौर पर सभी मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की एक वीडियो कॉन्फ्रेंस होती रही है। लेकिन इस बार अभी तक ऐसी कोई घोषणा नहीं हुई है।

लॉकडाउन का चौथा चरण 31 मई को समाप्त होने वाला है।

जब लॉकडाउन 4.0 शुरू हुआ था, तब गृह मंत्रालय ने कहा था, “देशभर में सीमित संख्या में गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगी। इनमें यात्रियों की सभी घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा शामिल हैं।”

हालांकि लॉकडाउन की आधी अवधि बीतने के बाद केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने घरेलू उड़ान सेवा फिर से सशर्त शुरू करके सभी को चौंका दिया।

अब राज्यों और केंद्र दोनों के सामने यह सवाल आ खड़ा हुआ है कि “अब आगे क्या?”

25 मार्च को लागू 21 दिवसीय लॉकडाउन 14 अप्रैल को समाप्त हुआ। लेकिन इसे तीन मई तक बढ़ा दिया गया। उसके बाद 17 मई तक बढ़ाया गया, और उसके बाद 31 मई तक।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleउत्तर प्रदेश में कोरोना के मरीजों की संख्या 7170 हुई, अब तक 197 मौतें
Next articleइंग्लिश प्रीमियर लीग 17 जून से होगी शुरू : रिपोर्ट
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here