मुस्लिम व्यक्ति के उत्पीड़न का मुद्दा उठाने पर गंभीर को मिला धर्म-निरपेक्षता पर पाठ

0
70

पूर्वी दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नवनिर्वाचित सांसद गौतम गंभीर द्वारा गुरुग्राम में एक मुस्लिम व्यक्ति के साथ दुर्व्यवहार के खिलाफ ट्वीट करने पर, उन्हीं की पार्टी शुभचिंतकों ने उन्हें आड़े हाथों लिया है।

मुस्लिम व्यक्ति से कथित तौर पर उसकी धार्मिक टोपी हटाने के लिए कहा गया था।

लोकसभा चुनाव जीतकर संसद में प्रभावशाली पदार्पण करने वाले गंभीर ने इस घटना को दुखद बताया था।

उन्होंने कहा, “गुरुग्राम में मुस्लिम युवक को उसकी धार्मिक टोपी हटाने और ‘जय श्री राम’ बोलने के लिए कहा गया। यह निंदनीय है। गुरुग्राम प्रशासन द्वारा अनुकरणीय कार्रवाई होनी चाहिए। हम एक धर्मनिरपेक्ष देश में रहते हैं जहां जावेद अख्तर ‘ओ पालन हारे, निर्गुण और न्यारे’ लिखते हैं और राकेश ओम प्रकाश मेहरा की ‘दिल्ली 6’ में ‘अर्जियां’ गीत होता है।”

हालांकि सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने गंभीर को मामले उठाने में पक्षपात नहीं करने के लिए कहा है।

एक यूजर ‘चौकीदार’ किशोर भर्तवाल ने लिखा, “मथुरा के भारत यादव पर ट्वीट कीजिए, जिसे रोजा खोलने के लिए खरीदी गई लस्सी के पैसे मांगने पर मार दिया गया। या चुप बैठिए. उन विषाणुओं से प्रभावित ना हों जो पक्षपात कर मुद्दे उठाते हैं।”

लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा समर्थकों ने पार्टी के प्रचार के लिए ‘चौकीदार’ शब्द का उपयोग किया था।

खुद को भाजपा समर्थक बताने वाले एक यूजर अंकित जैन ने भी गंभीर से हिंदुओं के मुद्दों समेत हर मुद्दे पर बोलने या फिर चुप रहने के लिए कहा।

उन्होंने ट्वीट किया, “या तो हर मुद्दे पर बोलो या चुप रहो।”

गंभीर की धर्म निरपेक्षता पर सवाल करने वाले मैसेज आने पर उन्होंने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि धर्म निरपेक्षता पर यह विचार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्र- ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ से निकला है।

उन्होंने ट्वीट किया, “मैं खुद को सिर्फ गुरुग्राम मामले तक ही नहीं रोकूंगा, जाति या धर्म के आधार पर कोई भी उत्पीड़न दुखद है। सहिष्णुता और समावेश पर ही भारत की विचारधारा आधारित है।”

गंभीर ने गुरुग्राम में एक मुस्लिम व्यक्ति पर हमले की निंदा कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी।

गुरुग्राम पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। दोषियों की पहचान के लिए पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज भी ले ली है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleशाओमी ने किया 3000mAh पावर बैंक लॉन्च, मेकअप मिरर का भी करेगी काम…
Next articleईएसआईसी ने फर्जी प्रसव घोटाले का भंडाफोड़ किया
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here