केआईवाईजी (राउंडअप) : महाराष्ट्र 156 पदकों के साथ टॉप पर कायम

0
53

मेजबान महाराष्ट्र यहां जारी खेलो इंडिया यूथ गेम्स (केआईवाईजी)-2019 के पांचवें दिन रविवार को पदक तालिका में कुल 156 पदकों के साथ मजबूती से शीर्ष पर कायम है। महाराष्ट्र ने रविवार को लगभग प्रत्येक खेल में स्वर्ण पदक जीते। उसने कुश्ती और जिम्नास्टिक में सबसे ज्यादा चार-चार स्वर्ण अपने नाम किए। इसके अलावा एथलेटिक्स, बैडमिंटन और जूडो में भी स्वर्ण बटोरकर महाराष्ट्र ने अपने स्वर्ण पदकों की संख्या 50 के पार पहुंचा दिया है।

मेजबान महाराष्ट्र के रविवार तक कुल 56 स्वर्ण पदक हो चुके हैं। इसके अलावा उसने 44 रजत और 56 कांस्य पदक लेकर अपने पदकों की संख्या को 156 तक पहुंचा दिया।

वहीं, दूसरी तरफ जूडो और तैराकी में तीन-तीन पदकों सहित नौ स्वर्ण पदकों की मदद से दिल्ली अभी भी महाराष्ट्र से पीछे है। दिल्ली के अब तक 45 स्वर्ण, 27 रजत और 28 कांस्य पदक हो चुके हैं और वह कुल 107 पदकों के साथ दूसरे स्थान पर है।

इसके अलावा पिछले साल खेलो इंडिया स्कूल गेम्स में चैम्पियन रही हरियाणा 33 स्वर्ण, 34 रजत और 36 कांस्य पदकों के साथ कुल 103 पदक लेकर तीसरे नंबर पर है।

दिन के स्टार खिलाड़ियों की बात करें तो 10 साल के अभिनव शॉ खेलो इंडिया यूथ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बने। पश्चिम बंगाल के शॉ ने अपने टीम साथी मेहुली घोष के साथ मिलकर 10 मीटर एयर रायफल मिश्रित टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता। मेहुली का यह दूसरा स्वर्ण पदक है। उन्होंने एक दिन पहले भी स्वर्ण हासिल किया था।

एक दिन पहले ही जहां केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर के बेटे मानवदित्य राठौर ने पुरुषों की अंडर-21 ट्रैप स्पर्धा में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था तो वहीं आज पूर्व दिगग्ज पिस्टल निशानेबाज और मौजूदा समय में राष्ट्रीय जूनियर पिस्टल टीम के कोच जसपाल राणा की बेटी देवांशी राणा ने महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा में स्वर्ण पदक हासिल कर लिया।

देवांशी ने हरियाणा की अंजलि चौधरी की चुनौती को पार करते हुए सोने पर निशाना लगाया।

एथलेटिक्स में नितिन और दानेश्वरी ने स्प्रिंट डबल पूरा किया। तमिलनाडु के बालाकुमार नितिन और कर्नाटक की एटी दानेश्वरी ने 100 और 200 मीटर में खिताब जीता।

नितिन ने अंडर-21 वर्ग के 200 मीटर में 21.57 सेकेंड के साथ स्वर्ण पदक जीता। दानेश्वरी ने लड़कियों की 200 मीटर रेस को 24.58 सेकेंड में पूरा किया और स्वर्ण अपने नाम किया।

पंजाब के अमनदीप सिंह धालीवाल ने लड़कों के अंडर-17 वर्ग में शॉट पुट में 19.20 मीटर का थ्रो फेंका।

राष्ट्रीय जूनियर चैम्पियन छत्तीसगढ़ की आकर्शी कश्यप ने लड़कियों की अंडर-21 वर्ग में महाराष्ट्र की मालविका बंसोद को हराकर बैडमिंटन स्वर्ण पदक जीता।

तैराकी में महाराष्ट्र की युगा बिरनाले ने बेतहरीन प्रदर्शन किया। महाराष्ट्र ने आज दो स्वर्ण सहित तीन पदक जीते और वह इस खेल में कर्नाटक और दिल्ली से आगे रहा। आज 12 स्वर्ण पदकों में से महाराष्ट्र ने चार जबकि दिल्ली और कर्नाटक ने तीन-तीन स्वर्ण पदक बटोरे।

युगा ने महिलाओं की अंडर-21 वर्ग के 200 मीटर में दो मिनट और 32.75 सेकेंड के साथ महाराष्ट्र को दिन का पहला स्वर्ण पदक दिलाया। युगा ने 200 मीटर बैकस्ट्रोक में दो मिनट और 34.09 सेकेंड के साथ कांस्य पदक भी जीता। गुजरात की मान पटेल और बंगाल की सौब्रती मोंडल ने क्रमश : स्वर्ण और रजत हासिल किया। युगा ने अपना तीसरा पदक चार गुणा 100 मीटर में जीता।

महाराष्ट्र की केनिशा गुप्ता ने लड़कियों की अंडर-17 वर्ग के 200 मीटर में दो मिनट और 29.68 सेकेंड के साथ मेजबान स्वर्ण जीता। वेदांत बापना ने राज्य के लिए चौथा स्वर्ण पदक जीता।

दिल्ली के जूडो खिलाड़ियों ने महाराष्ट्र को रोका

जूडो में महाराष्ट्र का वर्चस्व रहा है लेकिन दिल्ली की टीम ने उसके विजय रथ को रोकने का काम किया।

मकाउ एशियन कप 2018 में कांस्य पदक जीतने वाले भारत के लिए खेलने वाले सचिन मलिक (ब्वाएज अंडर-21, 100 किग्रा से अधिक) और मकाउ में ही स्वर्ण पदक जीतने वाली तुलिका मान (गर्ल्स यू-21 78 किग्रा से अधिक) ने दिल्ली को तीन और स्वर्ण पदक दिलाने में मदद की। इस तरह दिल्ली की टीम रविवार को समाप्त हुए जूडो इवेंट्स में एक दर्जन से अधिक स्वर्ण पदक जीतने में सफल रही।

दिल्ली के लिए सचिन और तुलिका के अलावा रीतिका दहिया ने गर्ल्स यू-21 63 किग्रा से कम कटेगरी में सोना जीता।

दिल्ली ने यू-17 और यू-21 आयु वर्ग में छह-छह स्वर्ण जीते। अंतिम दिन दिल्ली ने तीन, पंजाब ने दो और हरियाणा, मणिपुर तथा महाराष्ट्र ने एक-एक स्वर्ण जीता।

यू-21 ब्वॉएज फुटबाल के सेमीफाइलन में पहुंचे पंजाब, गोवा

पंजाब और गोवा ने ग्रुप-बी में चौंकाने वाली जीत के साथ यू-21 ब्वॉएज कटेगरी के फुटबाल टूनार्मेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश किया। पंजाब ने जबां मणिपुर को 2-0 से हराया वहीं गोवा ने कर्नाटक को 1-0 से हराते हुए अपनी लगातार दूसरी जीत दर्ज की और सेमीफाइनल का टिकट कटाया। गोवा और पंजाब ने कुल 6-6 अंक हासिल किए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleभाजपा में आया बड़े विरोधी दल का मुस्लिम सांसद, बीजेपी में दौड़ी खुशी की लहर
Next articleसीकरी को आकर्षक पद के प्रस्ताव के पीछे मोदी का राफेल डर : राहुल गांधी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here