जिस काम में कैप्टन कूल धोनी थे माहिर उस काम में विराट कोहली पूरी तरह रहे फेल

कोहली एक सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हो सकते हैं । पर कप्तान के के रुप में भी उन पर संदेह किया जा सकता है।यही नहीं यह भी माना जा सकता है कि कोहली कप्तान के रुप में अपरिपक्व कर रहे हैं । हम सभी जानते हैं कि अंतिम 11 के चयन और खिलाड़ियों को पर्याप्त मौके दिए बिना बाहर करने को लेकर पूर्व क्रिकेटर कोहली की आलोचना कर चुके हैं।

0
40

जयपुर( स्पोर्ट्स डेस्क)। कोहली एक सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हो सकते हैं । पर कप्तान के के रुप में भी उन पर संदेह किया जा सकता है।यही नहीं यह भी माना जा सकता है कि कोहली कप्तान के रुप में अपरिपक्व कर रहे हैं । हम सभी जानते हैं कि अंतिम 11 के चयन और खिलाड़ियों को पर्याप्त मौके दिए बिना बाहर करने को लेकर पूर्व क्रिकेटर कोहली की आलोचना कर चुके हैं।

और कर रहे हैं। कोहली ने टेस्ट टीम की कप्तानी संभालने की बाद 38 मैचों में कभी लगातार दो मैच में एक टीम नहीं खिलाई। आखिर उनका अजीब रिकॉर्ड इंग्लैंड के खिलाफ टूट जब तीसरे टेस्ट में बिना बदलाव के उन्हें टीम को उतारा । लेकिन इस बीच कोहली की एक और बात पर कई दिग्गज सवाल उठा रहे हैं,

और वह है अंपयार के फैसले का रिव्यू लेना । हम सभी जानते हैं कि पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से मदद कर ले सकते हैं । बता दें की अंपायरके ऑन फील्ड फैसले को बदलवाने के मामले में धोनी का रिकॉर्ड शानदार है।उनके फैंस तो डिसिजन रिव्यू सिस्टम को धोनी रिव्यू सिस्टम कहते हैं।

खुद कोहली ने जनवरी 2017 में कहा था कि इस मामले में धोनी का योगदान अमूल्य है कोहली के बयान में मैंने एक आंकड़ा देखा कि अपने करियर में उन्होंने जितनी अपील की हैं उनमें 95 फीसदी सफल रही हैं कोहली ने तब माना भी था कि वह डीआरएस को लेकर धोनी पर आंख मूंदकर विश्वास करते हैं ।

बता दें की 7 से 11 सितंबर के बीच इंग्लैंड के द ओवल मैदान पर भारत सीरीज का अंतिम टेस्ट खेल रहा है । इस मैच में भी कोहली से रिव्यू लेने में चूक हुई। इंग्लैंड की दूसरी पारी में भारत ने अपने दोनों रिव्यू बर्बाद कर दिए ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here