दुनिया का सबसे बड़ा प्राचीन शिवलिंग का जानिये हैरान कर देने वाला रहस्य

0
53

जयपुर। मनुष्य कई तरह के ईश्वर को मानता है जो भी उसके इष्ट है। लेकिन उनको कई सालों से पुजते हुये भी उनकों ईश्वर के बारे में उनकी कृतियों के बारे में नहीं पता है। वो एक अंधविश्वास में भी जी रहा है और वो उसी में ही रहना चाहता है। इसी तरह से कुछ इंसान होते है जो सच, अबूज़ पहलियों और रहस्यों को जानने के लिए उत्सुक रहते है। किसी भी अधूरी कहानी या अधूरे निर्माण को देखने पर उत्सुकता कई बार आकर्षण में बदल जाता है। ऐसा ही एक रहस्यमय और

अधुरे निर्माण जो लोगों के आकर्षण के केंद्र बना हुआ है वो है राजधानी भोपाल से 32 किलोमीटर दूर भोजपुर की पहाड़ी पर एक बादल और विशालकाय लेकिन अधूरा शिव मंदिर है। यह मंदिर भोजपुर शिव मंदिर या भोजेश्वर मंदिर के नाम से प्रसिद्ध हैं। जानकारी के लिए बता दे कि इस प्राचीन शिव मंदिर का निर्माण परमार वंश के प्रसिद्ध राजा भोज (1010 ई -1055 ई) द्वारा किया गया था जो कि मंदिर 115 फीट लंबा, 82 फीट चौड़े और 13 फीट ऊंचे चबूतर पर खड़ा है।

इस विशाल शिवलिंग को लाल बलुआ पाषाण से बनाया गया है। इस मंदिर में सामने की दीवार के बच्चे बाकी सभी तीन दीवारों में कोई छवि स्थापित नहीं हैं। मंदिर के बाहरी दीवार पर यक्षों की मूर्तियां भी स्थापित हैं। इस मंदिर को देखते हुए समझ में आता है कि यह सिर्फ एक मंदिर है, नहीं, उसके विशाल आकार के बच्चे भी इस मंदिर की कई विशेषताएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here