कैसे रची थी पूरे भाटिया परिवार ने सामूहिक आत्महत्या की कहानी? साथ ही देखें एक्सक्लूज़िव वीडियो

मोक्ष प्राप्त करना है तो जीवन को त्यागना होगा। जीवन को त्यागने के लिए मौत को गले लगाना होगा। मौत को गले लगाने में कष्ट होगा। कष्ट से छुटकारा पाना है तो आंखें बंद करनी होंगी।

0
140

जयपुर। दिल्ली पुलिस के द्वारा बुराड़ी के संत नगर स्थित भाटिया परिवार के 11 के 11 सदस्यों की फांसी के फंदे से लटकी लाश का मामला अब सुलझता हुआ दिख रहा है, क्योंकि पुलिस को जो सीसीटीवी कैमरों के फुटेज मिले हैं, उससे साबित होता है कि पूरे भाटिया परिवार ने एकसाथ मिलकर खुदखुशी कर ली थी।

पुलिस को पहले कई रजिस्टर मिले थे, जिससे ये साबित हो रहा है कि भाटिया परिवार के ललित को ये लगता था कि उसके पिता के 2007 मे मौत के कुछ दिनों के बाद उसके अंदर पिता की आत्मा आ गई है और ललित ने जैसा जैसा परिवार के लोगों को बताया, उस हिसाब से चलने पर खुशियां मिली हैं।

मरने वाले इस भाटी परिवार में नारायणा (75) , नारायणा की बेटी प्रतिभा (60), प्रतिभा की बेटी प्रियंका (30), नारायणा का बेटा भूप्पी (46), भूप्पी की पत्नी श्वेता (42), भूप्पी की बेटी नीतू (24) और मीनू (22) और बेटा धीरू, नारायण का दूसरा बेटा ललित (42), ललित की पत्नी टीना (38) और उसका बेटा शामिल हैं।

पुलिस की जांच टीम ने रजिस्टर को पलटा तो उसमें लिखा था..

मोक्ष प्राप्त करना है तो जीवन को त्यागना होगा। जीवन को त्यागने के लिए मौत को गले लगाना होगा। मौत को गले लगाने में कष्ट होगा। कष्ट से छुटकारा पाना है तो आंखें बंद करनी होंगी।

जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि डायरी आखिरी बार 26 जून को लिखी गई थी। इस डायरी में इस बात का ज़िक्र था कि हमें 30 जून को परमात्मा से मिलना है और इसके लिए हम हाथ, पांव और मुंह पूरी तरह से बांध देंगे ताकि हमें कोई सुन ना सके।

रजिस्टर में ये बात भी लिखी हुई है कि रात 1 बजे साधना करनी है और साधना करने से पहले नहाना नहीं है, सिर्फ हाथ और पांव बांध कर बैठना है। ये भी लिखा है कि सबको हाथ-पैर खुद ही बांधने है और अगर इसे खोलना है को हम एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं।

रजिस्टर में ये भी लिखा है कि बूढ़ी माता का हाथ पांव नहीं बांधा जा सकता है, इसलिए वो दूसरे कमरे में साधना करेंगी। इस बात का भी ज़िक्र है कि सभी को कौन कौन सी चुन्नी और साड़ी पहननी है और इसके अलावा रजिस्टर में वटवृक्ष और बड़वृक्ष की पूजा करने की बात भी कही गई है।

अब इस रजिस्टर की बातों को सिद्ध करता है पुलिस को मिला सीसीटीवी फुटेज। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के बारे में कोई भी सार्वजनिक नहीं की है, लेकिन इसके बारे में बताया ज़रुर है। पहली फुटेज के मुताबिक परिवार खुदखुशी के लिए 6 टूल खुद ही लेकर आया था। दूसरे फुटेज के मुताबिक फंदा बनाने के लिए घर के बच्चों ने खुद ही फर्नीचर की दुकान से वायर लेकर आए थे।

तीसरे फुटेज के मुताबिक भाटिया परिवार के लिए कोई खाना लेकर आया था, जिसका मतलब ये हुआ कि उस दिन घर पर खाना नहीं बना था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here