जाने कैसे रंग हमारे भाग्य को अपने वश में रखते हैं

0
278

जयपुर। रंगों का हम सभी के जीवन में अलग–अलग प्रभाव पड़ता है। वैसे अगर सारे रंग सफेद या काला होते तो हमारा जीवन रंग विहिन ब्लेक एड वाइट फिल्में की तरह होता। रंगों के प्रभाव के कारण ही हमारे अंदर सद्भावना, प्रेम, करुणा जैसे भाव पैदा होते हैं।

सारे रंग हम सभी के जीवन में कुछ न कुछ  असर जरूर डालते है। वैसे सारे व्यक्ति और वस्तुओं का अलग-अलग रंग होता है। ठीक ऐसे ही हमारे शब्दों और हमारी भावनाओं का भी रंग होता है। रंग हमारे जीवन में प्रेम को लाते भी है, बढ़ाते भी हैं और रिश्तों में दूरियां भी लाते हैं। आज इस लेख में हम रंगों के प्रभाव के बारे में बात करेंगे-

लाल रंग
लाल रंग ऊर्जा और शक्ति का रंग है। ज्योतिषिय आधार पर इसे मंगल और सूर्य का रंग माना जाता है। लाल रंग प्रेम की शुरुआत के लिए अच्छा होता है लेकिन उसे जारी रखने के लिए यह शुभ नहीं है।

गुलाबी रंग
गुलाबी रंग का संबंध प्रेम से है। ज्योतिषिय आधार पर इसे शुक्र, चन्द्र और मंगल का संयुक्त रंग माना जाता है।

पीला रंग
पीले रंग का संबंध शुभ चीज़ों और मंगल कार्यों से है। ज्योतिषिय आधार पर यह बृहस्पति का रंग माना जाता है। पीला रंग दोस्ती को दिखाता है। लेकिन ज्योतिष कहता है कि दोस्ती को प्रेम में बदलने के लिए पीले रंग का प्रयोग लाभकारी है।

नीला रंग
नीले रंग का संबंध अध्यात्म और भाग्य से है। ज्योतिषिय आधार पर इसे शनि का रंग माना जाता है। नीला रंग प्रेम में दार्शनिकता लाता है।

बैंगनी रंग
बैंगनी रंग का संबंध विलासिता और भोग से है।  ज्योतिषिय आधार पर इसके प्रयोग से ‘काम’ भाव में मजबूती आती है। बैंगनी रंग व्यक्ति में रोमांस के साथ शारीरिक आनंद को बढ़ाता है।

हरा रंग
हरे रंग का संबंध स्वास्थ्य से है। ज्योतिषिय आधार पर इसे बुध का रंग माना जाता है। इस रंग को  किसी भी दर्द और घाव को भरने में कारगर माना जाता है। प्रेम में हरे रंग का प्रयोग करने से प्रेम संबंध के टूटने का खतरा नहीं होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here