जानिए कैसे छूते हैं बड़ों के पैर और क्या मिलता हैं इससे लाभ

0
32

आपको बता दें, कि हिंदू धर्म में परंपरा में कई प्रकार के रीति रिवाज शामिल हैं जिन्हें हमारे ऋषि मुनियों ने बहुत ही गहन शोध कर बनाया था। हमारे यहां बुजुर्गों के पैरों को छूकर, लोग बल, विद्या, बुद्धि और सुख समृद्धि का आशीर्वाद मांगा जाता हैं और वरिष्ठ मनुष्य अपने से छोटे को अपने अच्छे कर्मों के ​फल के रूप में ये सभी चीजें आशीर्वाद के रूप में प्रदान करते हैं वही बचपन से लेकर आज तक हमें अपने से बड़ों का सम्मान करने और उनके चरण स्पर्श करने की जो सीख मिलती हैं आज हम उसी के लाभ के बारे में आपको बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं। अपने से वरिष्ठजनों के चरण स्पर्श करने से स्वयं के अदंर नम्रता, दूसरों के प्रति आदर, मान सम्मान और विनय का भाव जागृत हो जाता हैं इसके साथ ही वरिष्ठ व्यक्ति की सकारात्मक शक्ति का प्रवाह भी उसके आशीर्वाद के रूप में आपके अंदर प्रवाह हो जाता हैं। वही चरण स्पर्श की महत्ता को इस तरह भी जाना जा सकता हैं कि स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने अपने मित्र सुदामा के चरण स्पर्श किए बल्कि उसे धोया भी था। सुख और सौभाग्य की कामना के लिए हम सभी नवरात्रि के विशेष पर्व पर कन्याओं के भी इसी तरह पैर धोकर पूजन किया जाता हैं।

touch feet

वही अपने वरिष्ठजनों के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लेने से सभी कार्य बढ़िया से संपन्न होते हैं और तमाम तरह के दोष और बाधाएं भी दूर हो जाती हैं वही माता पिता और गुरु के चरण स्पर्श करने से व्यक्ति की धन और विवाह संबं​धी सारी बाधाएं दूर हो जाती हैं। वही किसी भी संत या वरिष्ठ व्यक्ति का चरण हमेशा अपना सिर दोनों हाथों के बीच में रखते हुए अपने शरीर के ऊपरी भाग को झुका कर करना चाहिए। वही साथ ही पैर छूते वक्त उस मनुश्य के प्रति पूरा आद और सम्मान की भावना होना चाहिए। वही अनमने ढंग से किसी भी मनुष्य का पैर नहीं छूना चाहिए। यह अच्छा नहीं माना जाता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here