एक समुदाय ऐसा भी जहा गाववालो के सामने मनाई जाती है सुहागरात

यह परम्परा सदियों से चली आ रही है। इसमें शादी की पहली रात को दूल्हा -दुल्हन के कमरे के बाहर पूरा गाँव उनके कमरे के पास खड़ा रहता है।

0
39

भारत देश अपनी संस्कृति और विविधता के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। भारत में हर तबके की अपनी संस्कृति व विशेषताएं है और इसके साथ ही अपनी अलग क्षेत्रीय पहचान.एक और चीज़ भारत के लोगो की पहचान है जिसे आम भाषा में परम्परा कहते है। परम्परा एक सही मायने में सामाजिक मेल- मिलाप का जरिया होता है ,पर कई बार कुछ परम्पराये, कुरीतियों के मांनिद सामाजिक शोषण और भेदभाव को न सिर्फ बढ़ावा देता है बल्कि कुछ हद तक उनका संरक्षण भी करते है। आज हम आपको बताएँगे ऐसी ही एक कुरीति के बारे में जिसमे शादी के बाद दम्पत्ति का पहला सुहागरात गाववालो के सामने होता है। सुनने में भले ही यह अजीब लगे लेकिन यह बात पूरी तरह प्रमाणिक है। भारत में कंजरभाट नामक एक समुदाय है। जिसमे यह परम्परा सदियों से चली आ रही है। इसमें शादी की पहली रात को दूल्हा -दुल्हन के कमरे के बाहर पूरा गाँव उनके कमरे के पास खड़ा रहता है। इस दौरान लोग लड़की की कौमार्य का निरिक्षण करते है जो काफी शर्मनाक है। हलाकि आधुनिक पढ़े -लिखे कंजरभाट समुदाय के नौजवान बड़ी तादाद में इस कुरीति के खिलाफ आवाज उठा रहे लेकिन अब तक इस रिवाज को बंद करने में कामयाबी हाथ नहीं लगी है।आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कंजरभाट समुदाय के लोग भारत में तकरीबन हर जगह मौजूद है.अगर लड़की का कौमार्य सही सलामत रहता है तब तो उसे बख्स दिया जाता है अन्यथा लड़की के साथ कुत्ते जैसा सलूक करने के मामले सामने आते रहते है। हलाकि धीरे -धीरे ही सही लोगो में इस रिवाज़ के खिलाफ जनमत तैयार हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here