आज के दिन दो शुभ और दो अशुभ संयोग के कारण बन रहें है ये चार दुर्लभ योग

0
87

जयपुर। सूर्य के राशि परिवर्तन के कारण व सूर्य के मिथुन राशि में प्रवेश के कारण सभी राशियों पर इसका प्रभाव तो पडेगा ही साथ ही आज का दिन भी खास बनने जा रहा हा है। आज के दिन एक साथ शुभ और अशुभ संयोग बन रहे है, इसके साथ ही सूर्य के गोचर के कारण के दुर्लभ योग भी बन रहें हैं। आज हम इस लेख में इन योग के बारे में बता रहे हैं।

बुधादित्य योग –  सूर्य के मिथुन राशि में प्रवेश के कारण ‘बुधादित्य योग’ बन रहा है इसके कारण जीवन में लाभ व समृद्धि आएंगी। जब कोई ग्रह सूर्य के निकट होता है, तो सूर्य के ओज के कारण अपना प्रभाव खोने लगते हैं। लेकिन बुध सूर्य के निकट अपना प्रभाव बनाए रखता है। जब भी सूर्य व बुध की युति होती है तो ‘बुधादित्य’ राजयोग बनता है।

गजकेसरी योग– आज चंद्रमा वृश्चिक राशि में रहेंगे, चंद्रमा किसी भी राशि में मात्र सवा दो दिन रहते हैं, सभी ग्रहों में केवल चंद्रमा ही ऐसा ग्रह हैं, जो सबसे कम दिन तक किसी राशि में टिकता है। आज  देवगुरु बृहस्पति पहले से ही वक्र गति से वृश्चिक राशि में विराजमान हैं, इसके साथ ही चंद्रमा के गोचर से गजकेसरी राजयोग बन रहा है।

ग्रहण योग– सूर्य के मिथुन राशि में प्रवेश करने के साथ ही मिथुन राशि में ‘ग्रहण योग’ बन रहा है। मिथुन राशि में पहले से राहु स्थित है जिसमें सूर्य के गोचर के कारण सूर्य-राहु की युति हो रही है जिससे ग्रहण योग बन रहा है। इस योग को अशुभ योग माना जाता है जिसके कारण से जीवन में असफलता व संघर्ष करना पड़ता है।

अंगारक योग–  सूर्य के राशि परिवर्तन से मिथुन राशि में चतुर्ग्रही योग बन  रहा है जिससे राहु-मंगल की युति हो रही है जिस कारण से अंगारक योग का निर्माण हो रहा है। अंगारक योग को अशुभ व अनिष्टकारी योग माना जाता है जिससे जीवन में संकट व असफलता का दौर शुरु होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here