जानिए दिल्ली की इस इच्छापूर्ती जगह के बारे में

दिल्ली भारत की राजधानी हैं और भारत का दिल भी इसमे कोई शक नहीं हैं। देश की राजधानी होने की वजह से यह पर्यटकों के बीच काफी मशहूर हैं।

0
77

जयपुर। दिल्ली भारत की राजधानी हैं और भारत का दिल भी इसमे कोई शक नहीं हैं। देश की राजधानी होने की वजह से यह पर्यटकों के बीच काफी मशहूर हैं। पर्यटक यहां पर दूर दूर से घूमने के लिए आते हैं। यह एक बहुत ही सुंदर शहर हैं। दिल्ली भारत के इतीहास का एक बहुत ही अहम हिस्सा हैं। फिरोजशाह कोटला का किला दिल्ली में स्थित है। कुतुब मीनार की तरह, लाल किला और हुमायूँ का मकबरा, दिल्ली का नगीना कोटला किला है। आइए आज जानते हैं यहां क्यों की जाती है एक यात्रा –

फ़िरोज़ शाह कोटला किला क्षेत्र को केवल कोटला के नाम से भी जाना जाता है। यह दिल्ली के सुल्तान फिरोज शाह तुगलक द्वारा बनवाया गया एक किला है। इस किले के पीछे मुख्य कारण तुगलकाबाद में पानी की कमी थी और यही कारण था कि मुगलों ने उस दौरे में अपनी राजधानी को तुगलकाबाद से फिरोजाबाद स्थानांतरित करने का फैसला किया।

कोटला का किला तुगलक वंश तीसरी पीढ़ी के शासन का प्रतीक है। स्थानीय लोग इस किले में बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। इसका कारण इस किले में प्रार्थना स्वीकार करने की मान्यता है। यह माना जाता है कि स्वर्ग से जिन्न इस किले में आते हैं और लोगों की इच्छाओं को पूरा करते हैं। इसे वास्तव में नहीं कहा जा सकता है लेकिन विश्वास और विश्वास पर सवाल नहीं उठाया जा सकता है। यह किला घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। इस किले के बाईं ओर अशोक स्तंभ और दाईं ओर जामा मस्जिद है।

आप यहां पर सुबह 08.30 बजे से लेके शाम को 07.00 बजे तक जा सकते हैं। आप यहां पर आराम से 1 से 2 घंटे बीता सकते हैं। भारतीय परेयटकों क लिए यहा की टिकिट सिर्फ 5 रूपय की हैं और फोरेनर्स के लिए 100रूपय की। यहां पर और भी एतीहासिक जगहें हैं जैसे हूमायूं का मकबरा, लाल किला, जामा मस्जिद और कुतुब मीनार।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here