कार्टून देखने से बढ़ती है बच्चों की यादाश्त  जानिए इस बारे में

। बच्चों का और कार्टून्स का रिश्ता तो ऐसा है जैसे चोली दामन का साथ हो । बच्चों के आगे टीवी का रिमोट आने की देर होती है और बस शुरू हो जाता है उनका कार्टून नेटवर्क ।

0

जयपुर । बच्चों का और कार्टून्स का रिश्ता तो ऐसा है जैसे चोली दामन का साथ हो । बच्चों के आगे टीवी का रिमोट आने की देर होती है और बस शुरू हो जाता है उनका कार्टून नेटवर्क । बच्चों को उसके आगे ना खाने का होश्ग होता है न पीने का ।

mickey-mouse-cartoon

हर कोई उनको इसके लिए डांटता ही रहता है । यहाँ तक की इसके कारण क्माओन को0 भी यह बात सुननी पड़ती है की बच्चे टीवी ही देखते रहते हाइन वह बिगड़ रहे है ।, अब बच्चों की आदत को लकार माँ की गलती गिनाना कोई नई बात तो है । नहीं पर आज हम आपके लिएक जो खबर ले कर आए हैं वह ना सिर्फ आपको राहत की सांस देगी बल्कि इससे आपके बच्चों की खुशी का भी कोई ठिकाना नहीं रहेगा ।

साइकोलॉजी एंड एजुकेशन द्वारा करवाई गई एक स्‍टडी में ये बात कही गई है कि कार्टून देखना बच्‍चों के विकास के लिए अच्‍छा होता है। इससे बच्‍चों की चीजों का बताने की, जिंदगी के प्रति नजरिए की और जीवन के मूल्‍यों के प्रति समझ बढ़ती है। इस स्‍टडी के शोधकर्ताओं ने बताया कि इंटरनेट और अन्‍य इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइस के इस्‍तेमाल को कंट्रोल करने के तरीके सीखने चाहिए। इसके अलावा माता-पिता को ये भी चिंता रहती है कि उनके बच्‍चे इंटरनेट और इस पर दिखाई जा रही चीजों से बिगड़ रहे हैं।

इरत्ना ही नहिओ इसमें भी जो बच्चे नेरेटिव कार्टून देखते हैं वह बच्चे नॉन नेरेटिव कार्टून को देखने वाले बच्चों की तुलना ज्यादा शार्प माइंड वाले होते हैं । वह हर बात को बहुत ही बारीकी से ध्यान में रखते हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here