Kei Hewtridge की हैट्रिक, चेल्सी ने बर्नस्ले को 6-0 से दी मात

0

जर्मन मिडफील्डर केई हेवट्र्ज की शानदार हैट्रिक के दम पर ईपीएल क्लब चेल्सी ने काराबाओ कप के चौथे राउंड के मैच में बर्नस्ले को 6-0 से करारी शिकस्त दी । इस सीजन में बेयर लेवरकुसेन का साथ छोड़कर चेल्सी में आए हेवट्र्ज ने 28वें, 55वें और 65वें मिनट में गोल करके अपनी हैट्रिक पूरी की । बताते चले कि, अब चेल्सी का सामना टॉटेनहम हॉटस्पर या लियटन आरियंट से हो सकता है ।

इस जीत के बाद चेल्सी के मैनेजर फ्रेंक लाम्पार्ड ने मीडिया को बताया है कि, “मैं केई के प्रदर्शन से काफी खुश हूं । मैं उनके लिए आज ऐसी ही शुरुआत चाहता था”

 

IPL-13 : बल्लेबाजी क्रम में सुधार चाहेंगी चेन्नई, दिल्ली

SHARE
Previous articleSunil Chhetri सर्वश्रेष्ठ हैं और हर दिन सर्वश्रेष्ठ होना चाहते हैं : सहल अब्दुल समद
Next article65W फास्ट चार्जिंग के साथ Realme Narzo 20 Pro आज पहली सेल पर, जानें कीमत और फीचर्स
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here