भारत के कश्मीर पंडितों ने की अमेरिकी सांसदो से मुलाकात, कश्मीर घाटी के हालात पर की बातचीत

0

जयपुर।विदेश मामलो की सदन की समिति की एशिया प्रशांत और अप्रसार उपसमिति 22 अंक्टूबर को कश्मीर और दक्षिण एशिया के अन्य हिस्सों में मानवाधिकार पर चर्चा करने वाली है।जिसको लेकर अमेरिका में इंडो अमेरिकन कम्यूनिटी फेडरेशन ने कश्मीरी ओवरसीज एसोसिएशन और यूएस—इंडिया पॉलिटिकल एक्शन कमेटी के साथ ‘कश्मीर आगे का रास्ता’ नामक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है।

जिसमें कश्मीर ओवरसीज एसोशिएसन के अध्यक्ष शकुन मलिक ने कश्मीरी पंडितों की दशा और भारत सरकार के द्वारा कश्मीर से हटाए गए अनुच्छेद—370 व 35 ए की वजह से समाज के कमजोर तबकों व अल्पसंख्यकों और कश्मीरी महिलाओं के साथ हुए भेदभाव के बारे में बातचीत की है।

सूत्रों ने बताया है कि इस बात की चर्चा करते हुए अमेरिका में रह रहे कश्मीरी पंडितों ने अमेरिकी सांसदों को घाटी के हालात और कुछ दशकों से हो रहे उनके अधिकारों के उल्लंघन से अवगत भी कराया है।बताया जा रहा है कि दक्षिण एशिया में मानवाधिकारों की स्थिति पर अगले सप्ताह अमेरिकी संसद में चर्चा होनी है और इससे ठीक पहले कश्मीरी पंडितों ने अमेरिकी सांसदों से मुलाकात की और कश्मीर पर जानकारी दी है।

इस बातचीत के दौरान ‘कश्मीर आगे का रास्ता नामक’ कार्यक्रम की मेजबानी करने वाले कैलिफोर्निया के जीवन जुत्शी ने बताया है कि कश्मीर के लिए आगे का रास्ता यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कश्मीर में सभी धर्म के लोग शांति के साथ वहां पर निवास कर सके।

इस कार्यक्रम के दौरान कश्मीर का ताजा हालात का एक वीडियो भी दिखाया गया है, जिसमें कश्मीर में अब धीरे—धीरे सामान्य होते हालात के बारे में दिखाया गया है।चूंकि बीतें 5 अगस्त को भारत की सरकार ने जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य दर्जा दिए जाने वाले सभी प्रावधानों को खत्म करते हुए इसे दो केंद्र शासित राज्यों में बांटने का निर्णय लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here