28 घंटे में भाजपा कैसे साबित करेगी कर्नाटक में बहुमत?

0
163

जयपुर। आज सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद लगातार चल रही घटनाक्रम पर एक तरह का छोटा सा विराम लगाते हुए ये आदेश दिया है कि भाजपा को कल ही यानि कि 19 मई को शाम के 4 बजे तक बहुमत साबित करना होगा। पहले राज्यपाल वसुभाई वाला ने भाजपा को बहुमत हासिल करने के लिए 15 दिनों का समय था।

ऐसे में भाजपा के लिए सबसे बड़ी चुनौती है कि वो विधानसभा में ज़रुरी बहुमत की सीटें साबित करनी होगी। तो भाजपा के पास क्या वो ज़रुरी सीटें हैं, जिससे कि पार्टी विधानसभा में बहुमत साबित कर देगी। भाजपा के बीएस येदियुरप्पा ने कल ही सीएम के रूप में शपथ ले लिया था।

कर्नाटक में 224 सीटों में से 222 सीटों पर विधानसभा चुनाव हुए थे। भाजपा के खाते में गए थे, 104 सीटें, कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के पास हैं, 118 सीटें और निर्दलीय के पास हैं 2 सीटें। बहुमत के लिए 111 सीटों की जरुरत है, क्योंकि जेडीएस के नेता और सीएम उम्मीदवार एचडी कुमारस्वामी ने दो सीटों पर जीत हासिल की है तो उनकी केवल 1 सीट ही मान्य होगी।

भाजपा को अब चंद घंटो के अंदर ही बहुमत साबित करना होगा। भाजपा के अनुसार कांग्रेस के 7 लिंगायत विधायक उनके संपर्क में हैं। ये लिंगायत विधायक कांग्रेस को धोखे में रख कर अनुपस्थित ज़रुर रह सकते हैं।

 

कांग्रेस के अगर 7 विधायक अनुपस्थित रहते हैं, तो इस तरह से कुल विधायकों की संख्या हो जाएगी, 214। अब बहुमत के लिए 108 सीटों की ज़रुरत होगी। इस तरह से भाजपा को 4 विधायको का जुगाड़ करना होगा। निर्दलीय सिर्फ 2 ही विधायक हैं और इस तरह से अगर वो भाजपा को समर्थन दें भी दें तो भाजपा के पास होंगे 106 विधायक, जो बहुमत से 2 सीट दूर रह जाएगी। हालांकि भाजपा ने दावा किया है कि वो कल शाम 4 बजे तक बहुमत साबित कर देगी।

भाजपा को अगर बहुमत साबित करना है तो उसे उम्मीद करनी चाहिये कि ज़्यादा से ज़्यादा कांग्रेस-जेडीएस के विधायक अनुपस्थित रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here